Thursday, April 30, 2015

मैं फिर भी न सपड़ा










मैं फिर भी न सपड़ा 
----------------------

ठीक बाहर 
याकि मेरे ठीक भीतर 
एक मुर्दा ज़िन्दगी 
औ ' शहर उजड़ा । 

ओफ ,
जब ये धड़कता है दिल 
लगता मांस का एक लोथड़ा है ,
और मैं  महसूसता हर पल ;
कि आफ़त - सा कोई पीछे पड़ा है ;

अदबदा कर भागता मैं 
जान अपनी छोड़ ,
गिरता और पड़ता 
पाँव होते हुए लँगड़ा । 

 ख्वाब में 
डर से निकलती चीख ,
लगता हो गयी हैं अधमरी साँसें ,
धँसे हैं  रक्त - प्यासे ड्रेकुला के दाँत ,
खुलते जा रहे हैं देह के गाँसे ;

हो रही इन ठोकरों में 
है कपाल - क्रिया ,
मैँ फिर भी न सपड़ा । 

                    - श्रीकृष्ण शर्मा 

___________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 57




Wednesday, April 29, 2015

करुणा गप है










      करुणा गप है 
      ---------------

        पिघल रहा है 
        दर्द ,
        कौन रूमालों लेगा ?

        चले गये 
        सारे हमदर्दी 
        आँख चुराकर ,
        सम्बन्धों पर 
        प्रश्न - चिन्ह अनगिनत 
        लगाकर ;

        ग़ैर कौन 
        जो नेह - छोह को 
        भाषा देगा ?

        साँसत में है 
        साँस 
        और गूँगे आश्वाशन ,
        अन्धी - बघिर सभा है ,
        कौन सुनेगा 
        रोदन ?

        करुणा गप है 
        सच कहना 
        क्या चीर बढ़ेगा ?

                 - श्रीकृष्ण शर्मा 

__________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 56












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Tuesday, April 28, 2015

जंगल में खो गया हूँ मैं !










   जंगल में खो गया हूँ मैं !
   --------------------------

    भीड़ ही भीड़ है ,
    इस भीड़ में कहाँ हूँ मैं ?

    राह दिखती नहीं ,
    जंगल है एक मनुष्यों का ,
    सच कहूँ तो इसी 
    जंगल में खो गया हूँ मैं  !

    एक आवाज़ भी 
    लगती नहीं पहचानी ,
    क्या पता कौन - सा 
    ये देता इम्तिहाँ हूँ मैं ?

    एक मुद्दत हुई 
    सपना नहीं आया कोई ,
    साँस के इस सफ़र से 
    इस क़दर हैराँ हूँ मैं !

    आपका रहमो -करम 
    रक्खे है ज़िन्दा मुझको ,
    वरना लगता रहा ज्यों 
    मौत के दरम्याँ हूँ मैं !

                  - श्रीकृष्ण शर्मा 

____________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल "  ,  पृष्ठ - 55












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Monday, April 27, 2015

छुअन सिहराती नहीं










     छुअन सिहराती  नहीं 
     ----------------------

       मैं यहाँ  हूँ 
       आज 
       सबसे परे !

       छुअन 
       सिहराती नहीं 
       मुझको ,
       सिसक 
       बिखराती  नहीं 
       मुझको ;

       सहज स्वर 
       संवेदना के मरे !

       हो गया क्या ?
       जो हवा चुप है ,
       धूप - दिन का मन 
       तिमिर - घुप  है ;

       पर तुम्हारे साथ के 
       वे दृश्य ,
       अब कुछ और भी निखरे !

                - श्रीकृष्ण शर्मा 

__________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 54












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Sunday, April 26, 2015

तुम गये तो










      तुम गये तो 
      -------------

        बन्धु मेरे ,
        तुम बिना पिघले नहीं 
        मेरे अँधरे !

        तुम गये तो 
        गया दिन भी ,
        ज्योति रह पायी नहीं 
        फिर एक छिन भी ;

        किन्हीं तहखानों हुए 
        बन्दी उजेरे ,
        बन्धु मेरे !

        ढले काँधे ,
        विन्ध्य - जैसा बोझ लादे ,
        मर गये संघर्ष में 
        पुख्ता इरादे ;

        छिने मौरूसी हक़ों वाले 
        हमारे स्वर्ण डेरे ,
        बन्धु मेरे !

                   - श्रीकृष्ण शर्मा 

___________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 53












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Saturday, April 25, 2015

तेरे बिन ओ मीता !










      तेरे बिन ओ मीता !
      ---------------------

        आँखों में रात गयी ,
        पथ तकते दिन बीता ,
        तेरे बिन ओ मीता !

        अंधकार के घर से 
        सुबह निकल आयी है ,
        पूरब ने कंधों पर 
        रोशनी उठाई है ;

        किन्तु दिखी नहीं कहीं 
        सपनों की परिणीता !

        इन्द्रधनुष थे लेकिन 
        इंतज़ार में टूटे ,
        कर डाले सारे सच 
        उदासियों ने झूठे ;

        शहर सभी सूना है ,
        भरा - भरा मन रीता !

                      - श्रीकृष्ण शर्मा 

____________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 52












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Friday, April 24, 2015

होरी - सा बुझा हुआ बैठा










 होरी - सा बुझा हुआ बैठा 
----------------------------

भीड़ में मिले थे हम दोनों ,
कह सके नहीं जो था कहना !
फिर एक बार जो बिछुड़े तो ,
खो गया कहीं मन का लहना !!

फिर दर्द लिये वह बिछुड़न का ,
आधी साँसों से राह चले !
आशाओं के बादल पिघले ,
वेदना - व्यथित अँधियार पले !!

रंगों ने चाहा बहलाना ,
रूपों ने चाहा उलझना !
पर बाबर - जैसा रहा मुझे ,
फिर समरकन्द औ ' फरगाना !!

इच्छाएँ सारी ज़िबह हुई ,
सब सपने भुने कढ़ावोंं में !
होरी - सा बुझा हुआ बैठा ,
तुम बिना ना आग अलावों में !!

                         - श्रीकृष्ण शर्मा 

____________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 51








sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Thursday, April 23, 2015

अपनी कहानी










       अपनी कहानी 
       ----------------

       अपनी तो मीता रे ,
         बस यही कहानी !

         पत्थर के कोयलों के 
         धूएँ से भरी रही ,
         सुबह - शाम घुटती रही 
         शापित ज़िन्दगानी !

         कोल्हू के बैलों पर 
         जुए - सी धरी रही ,
         दिन औ ' रात छाती पर 
         चिन्ता की धानी !

         बचपन में लगी चोट 
         जीवन - भर हरी रही ,
         पर न दिखी ऊपर 
         उस चोट की निशानी !

         सुख का तिनका भी जब 
         बचा न तो डरी रही ,
         स्वप्न तक में कच के लिए 
         व्यथित देवयानी !

         अघटित भी घटित देख 
         मरी - सी पड़ी रहीं ,
         हृदयघात - पीड़ित ये 
         साँसें शाहजहाँनी !

                        - श्रीकृष्ण शर्मा 

___________________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 50









sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com


Wednesday, April 22, 2015

शाम : एक मजदूरिन










     शाम : एक मजदूरिन 
     ------------------------

       ईंटों की गर्द 
       और कोयलों की कालिख में 
       लिपटी हुई मजदूरिन शाम । 

       दिन भर की हाड़ - तोड़ 
       मेहनत से चूर देह 
       और शिथिल काँधे ,
       आँखें निस्तेज और 
       मन - मन भर बोझिल 
       पाँव थके - माँदे ;

       फिर कल की 
       चिन्ता में अब से ही 
       पिटी हुई मजदूरिन शाम । 

       गुमसुम औ ' बुझी - बुझी 
       बैठी है एकाकी 
       इस सूने वातायन ,
       कोलाहल चहल - पहल 
       बचे नहीं 
       अब तम के आँगन ;

       जीवन की 
       बेबस लाचारी - सी 
       मिटी हुई मजदूरिन शाम । 

                     - श्रीकृष्ण शर्मा 

_________________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 48


  







sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com

Tuesday, April 21, 2015

उठ रहीं लपटें










    उठ रहीं लपटें 
    ---------------

     उठ रहीं लपटें !

     सो रहे थे 
     रात को जब लोग 
     मस्ती में ,
     सिरफिरों ने 
     तब लगा दी आग 
     बस्ती में ;

     चीख - चिल्लाहट मची थी ,
     सिर्फ़ घबराहट बची थी ,
     देखते सब राख होते ,
     पर जियाले , धूल - मिट्टी 
     आग पर पटकें !

     हादसों के 
     ख़ौफ़ में डूबी 
     हुई राहें ,
     मौत को 
     हर मोड़ पर फैली 
     हुई बाँहें ,

     हर क़दम बारूद के घर ,
     वहम , संशय , फ़िक्र औ ' डर ,
     इन क्षणों हैं आग कितने ,
     जलाने आतंक को जो 
     लपट बन झपटें !

                   - श्रीकृष्ण शर्मा 

_____________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 47












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Monday, April 20, 2015

बाजों की दहशत में










    बाजों की दहशत में 
    ----------------------

     हाथों में 
     नोकीले पत्थर लिये हुए ,
     अन्धी - तंग सुरंग ,
     होंठ सब सींये हुए । 

     साँसों विष है ,
     विषधर पाले जैसे - जी ,
     लाक्षागृह की 
     आग रही है मन में जी ;

     शापग्रस्त घाटी में 
     सब पग दिये हुए । 

     आग , ख़ून ,
     चीखें हैं औ ' चिल्लाहट है ,
     गूँज रही 
     आदमख़ोर गुर्राहट है ;

     बाज़ों की दहशत में 
     चिड़िया जिये हुए । 

                  - श्रीकृष्ण शर्मा 

____________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 46












sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com

Sunday, April 19, 2015

निशि - दिन अब धृतराष्ट्र व गांधारी










निशि - दिन अब धृतराष्ट्र व गांधारी 
----------------------------------------

तुमने दीवाली पर दीपक ख़ूब जलाये थे !!

सिर पर उजियारे की पगड़ी 
बाँधे रहा दिया ,
तम अनियारे रखा , देह में 
जब तब रक्त जिया ;
काल - रात्रि में ज्योति - केतु घर - घर फहराये थे !
तुमने दीवाली पर दीपक ख़ूब जलाये थे !!

पर जब भी शातिर अँधियारा 
पसरा धरती पर ,
नक्षत्रों का बोझ लिये 
बेमानी है अम्बर ;
मावस  ने दहशत के ऐसे व्यूह बनाये थे !
तुमने दीवाली पर दीपक ख़ूब जलाये थे !!

अब न दीवाली , निशि - दिन अब 
धृतराष्ट्र व गांधारी ,
और हस्तिनापुर में है 
दुर्योधन की पारी ;
जिसकी ख़ातिर भीष्म - कर्ण ने शस्त्र उठाये थे !
तुमने दीवाली पर दीपक ख़ूब जलाये थे !!

बचकर रहना शकुनी की तुम 
घातक चालों से ,
अभिमन्यु के बधिकों औ '
लाक्षाग्रह वालों से ;
मारो ,ज्यों न भीम से अन्यायी बच पाये थे !
तुमने दीवाली पर दीपक ख़ूब जलाये थे !! 

                                    - श्रीकृष्ण शर्मा 

_________________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 44









sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com 

Saturday, April 18, 2015

हम तम में हैं










     हम तम में हैं 
     ---------------

       हम तम में हैं , पर तुमको क्या ?
       तुमने दीप गगन में बाले !!

       हम बेघर , बेदर , फुटपाथी ,
       तुम सतखण्डी महल सँभाले !!

       बना रहे रक्त को स्वेद हम ,
       तुमने उससे मोती ढाले !!

       जन - जन को हम अन्न दे  रहे ,
       मुँह से तुम छीनते निवाले !!

       समिधा हम , आहुति यज्ञों  की ,
       पर तुम वर पर डाका डाले !!

       जो हक़ छीने , दौड़ पड़ो सब ,
       उस पर खुखरी औ ' कटिया ले !!

                      - श्रीकृष्ण शर्मा 

______________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 43









sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com

नहीं ये वो देश










     नहीं ये वो देश 
     ----------------

       नहीं , नहीं ,
       नहीं ये वो देश ,
       जिसके स्वप्न लिये आये हम !

       पागलों - से बिफरते तूफान ,
       बर्बर बाढ़ , ख़ूनी  जंगलों से ,
       ओफ़ , भूखे , आग खाते ,
       जानलेवा मरुथलों से ;

       - आ गये जीवित यहाँ तक 
       सिर्फ़ था आवेश ,
       जो पत्थर - सरीखे 
       हम गये न जम !

       सामने परिदृश्य में 
       फूहड़ -छिछोरी दौड़ ,
       पीछे छूटती जातीं ऋचाएँ ,
       अहम् की सुविधा भरी हैं 
       धूर्त -कायर मंत्रणाएँ ;

       - बेरहम , त्रासद , जरायम 
       औ ' बघिर परिवेश ,
       सहते हम विवश ,
       निरुपाय , अक्षम !

                        - श्रीकृष्ण शर्मा 

_________________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 42



  





sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com

Thursday, April 16, 2015

नरक जगा आँखों










     नरक जगा आँखों 
     --------------------

       सूख चली है नदी नेह की ,
       सम्मुख है अब सदी  देह की । 

       करुणा है कीचड़ में लथपथ ,
       संवेदन की टूटी है गत ,
       है लंगड़ों के सम्मुख परबत ,
       दीवारें गिर रहीं  गेह की ,
       हुई तेज़ाबी बूँद मेह की । 

       भावुकता को लकवा मारा ,
       अपनेपन पर चला दुधारा ,
       चेतन अब जड़ता से हारा ,
       मिटी उर्वरा शक्ति ' लेह ' की ,
       माटी तक हो गयी रेह की । 

       छल - बल के हाथों विजय - ध्वज ,
       लिखा खा रहा काला काग़ज़ ,
       क्या पागलपन , क्या अब पद - रज ?
       नरक जगा आँखों अदेह की ,
       सम्मुख है अब सदी देह की ।  

                         - श्रीकृष्ण शर्मा 

______________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 41












sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com

Wednesday, April 15, 2015

दुर्गन्धों डूबी सुगंधियाँ










   दुर्गन्धों डूबी सुगंधियाँ 
  -------------------------

        शीश तगाड़ी ,
        बिना दिहाड़ी ,
        सम्मुख ऊँची खड़ी पहाड़ी !

        पस्त हौसले 
        त्रस्त धौंस ले 
        बिखर रहे हैं
        बने घौंसले ;

        किसको कोसें ,
        किसको पोसें ,
        अपनी मूंछें , अपनी दाढ़ी !

        सबने चाहा ,
        सागर थाहा ,
        पर मंसूबा 
        था अनब्याहा ;

        जैसे इंजन 
        छोड़ बढ़ गया ,
        पीछे खड़ी रह गयी गाड़ी !

        मुकुट ज़री  के ,
        माथे टीके ,
        कुर्सी बैठे 
        लाट - सरीखे ;

        सुविधाएँ 
        द्वारे दासी - सी ,
        नंगे - भूखे - रुग्ण पिछाड़ी !
        दुरभिसंधियाँ ,
        कुहदबंदियाँ ,
        दुर्गन्धों 
        डूबीं सुगंधियाँ ;

        ये वहशी 
        दरिन्दगी उफ़ - उफ़ ,
        साधो कत्तल , मारो फाड़ी !

                      - श्रीकृष्ण शर्मा 

__________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 39 , 40









sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com
  

Tuesday, April 14, 2015

आप अफ़सोस करते रहे !










   आप अफ़सोस करते रहे !
   ----------------------------

    आप अफ़सोस करते रहे ,
    किन्तु वे 
    हर फसल आके चरते रहे !

    हाल बेहाल था ,
    बेबसी का क़दम ताल था ,
    तर हुआ आँसुओं - डूबा रुमाल था ,

    आप उद्घोष करते रहे ,
    किन्तु वे 
    पंख आकर कतरते रहे !

    दर्द बेदर्द था ,
    झेलते -झेलते चेहरा ज़र्द था ,
    क़ातिलों का मगर दिल बहुत सर्द था ,

    आप आक्रोश करते रहे ,
    किन्तु हम 
    सब बिना मौत मरते रहे !

                    - श्रीकृष्ण शर्मा 

___________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 37












sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com

Monday, April 13, 2015

एक देशद्रोही का आत्म - कथ्य










एक देशद्रोही का आत्म - कथ्य 
----------------------------------

        शीश नहीं ,
        हम तो बस सिर्फ़ हैं कबन्ध । 
        अपना तो परिचय है 
        - जाफ़र - जयचन्द । 

        खड़े हुए 
        काई पर पाँव धरे ,
        बड़े हुए 
        मगर बँटे औ ' बिखरे ;

        नाटक के पात्रों - सा 
        रखकर सम्बन्ध । 
        अपना तो परिचय है 
        - जाफ़र - जयचन्द । 

        स्वर्ण - कलश 
        हम पर हैं छेर पड़ी ,
        जीवन - रस 
        में हम हैं विषखपड़ी ;

        स्वार्थों से किया सदा 
        हमने अनुबन्ध । 
        अपना तो परिचय है 
        - जाफ़र  - जयचन्द । 

        नदियों को 
        जब चाहा सोख लिया ,
        सदियों को 
        बढ़ने से रोक दिया ;

        सुनने में थे सदैव 
        हम ललित निबन्ध । 
        अपना तो परिचय है 
        - जाफ़र  - जयचन्द ।  

                             - श्रीकृष्ण शर्मा 

___________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 35 , 36








sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com



Sunday, April 12, 2015

राह में जब बढ़े










    राह में जब बढ़े 
    ----------------

     थी सुबह 
     राह में जब बढ़े ,
     हो गयी शाम अब । 

     गंध का साथ था ,
     धूप का 
     शीश का हाथ था ;
     पंथ में 
     इन्द्रधनुष थे जड़े ,
     गुमे गुलफाम सब । 

     दर्द को 
     धड़कनों में लिये ,
     गीत की बस्तियों में जिये ;
     शब्द की 
     अस्मिता को लड़े ,
     हुए नाकाम अब । 

     बाजियाँ जीतते - हारते ,
     तन गलाते 
     औ ' मन मारते ;
     स्वप्न 
     जितने थे हमने गढ़े ,
     हुए गुमनाम अब । 

                - श्रीकृष्ण शर्मा 

________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 34












sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com

Saturday, April 11, 2015

बादल तो आये










बादल तो आये
----------------

बादल तो आये , पर बिन बरसे ही चले गये । 

सात - सात दिन तक सावन में 
मेघिल झर झरना ,
सच पूछो तो हुआ आज की 
पीढ़ी को सपना ;
क़त्लेआम वनों का कर , लगता हम छले गये । 
बादल तो आये , पर बिन बरसे ही चले गये । । 

बिगड़ा मौसम का मिजाज़ ,
गरमाये सूरज जी ,
हावी होती हरीतिमा पर ,
मरुथल की मरज़ी ,
ज़हर - बुझी है हवा , कान पेड़ों के मले गये । 
बादल तो आये , पर बिन बरसे ही चले गये । । 

कंकरीट के जंगल उगकर 
होने लगे घने ,
अन्धे - तंग गली - कूँचे सब 
गन्दे , कीच - सने ;
पाश धूप के तन में धुन्ध - धुएँ के डले गये । 
बादल तो आये , पर बिन बरसे ही  चले गये । । 

देहरी को लीप कर सवेरे 
रंगोली रचना ,
उत्सव पर मेंहदी व महावर 
गीत - नाद - हँसना ;
भाषा - भूषा - संस्कृति के सब गौरव दले गये । 
बादल तो आये , पर बिन बरसे  ही चले गये । । 

बाल बिखेरे धूल घुड़चढ़ी 
अम्बर में करती ,
शोकगीत लिखती हर तितली 
तिल - तिल कर मरती ;
शोर बन गया जालिम इतना , सब पग तले गये । 
बादल तो आये , पर बिन बरसे ही चले गये । । 

आतंकित है आज प्रकृति 
बढ़ रहे प्रदूषण से ,
पर्यावरण मिट रहा है 
पगलाये दूषण से ;
नाश देखता , मनुज मरण - पथ में बढ़ भले गये । 
बादल तो आये , पर बिन बरसे ही चले गये । । 

                                             - श्रीकृष्ण शर्मा 

______________________________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 31 , 32

   





sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com


Friday, April 10, 2015

मन पठार हुए










     मन पठार हुए 
    ----------------

     भीड़ है 
     पर 
     गीत एकाकी । 

     हैं खड़ी बहसें 
     उठाये हाथ ,
     तर्क घेरे हैं 
     सभी फुटपाथ ;

     मंच पर 
     वक्तव्य बाकी । 

     मन पठार हुए 
     न झरते आह ,
     बुझी आँखें 
     अब न छूतीं दाह ;

     निरर्थक 
     गंध काया की । 

                            - श्रीकृष्ण शर्मा 

_________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 49












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

शंख - ध्वनि दूर










     शंख - ध्वनि दूर
     ------------------

       बुझा अभी ,
       जलता अंगारा । 

       मद्धित  है रोशनी 
       हालत है सोचनी ;
       दिन है अब 
       साँझ का उतारा । 

       बुझा अभी ,
       जलता अंगारा । 

       पका मोतियाबिन्द ,
       धृतराष्ट्र हुआ हिन्द ;
       शंख - ध्वनि दूर 
       पार्थ द्वारा । 

       बुझा अभी ,
       जलता अंगारा । 

                    -  श्रीकृष्ण शर्मा 

________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 33












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Wednesday, April 8, 2015

फटी किनार लिये










     फटी किनार लिये 
     --------------------

       आया यहाँ झला पानी का ,
       लेकिन डरे - डरे । 

       नहा रही गौरेया 
       - खेतों ,
       लोट रहा है गदहा 
       - रेतों ;

       मुरझे हैं चेहरे पातों के ,
       जंगल धूल भरे । 

       फटी किनार लिए हैं 
       - हाथों ,
       नदी अभागिन है 
       - बरसातों ;

       उफ़ , किस जालिम ने हड़का कर ,
       जलधर किये परे ?

                            - श्रीकृष्ण शर्मा 
______________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 30












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Tuesday, April 7, 2015

यों मत दौड़ो !










      यों मत दौड़ो !
     ----------------

       यों मत दौड़ो 
       गिर जाओगे ,
       गिरे अगर तो पीछे आते 
       पॉंवों - तले कुचले जाओगे !

       कीचड़ में 
       धरती लथपथ है ,
       पता न फँसे 
       कहाँ पर रथ है ;

       सँभले अगर न ,
       कर्ण - सरीखे 
       समर - मध्य मारे जाओगे !

       षड्यंत्रों में 
       चक्रव्यूह हैं ,
       कृत्या 
       अभिशापित रूह हैं ;

       चेतो ,
       इस महफूज़ तख़्त को 
       ' तख़्ता ' तुम्हीं बना पाओगे !

                              - श्रीकृष्ण शर्मा 
_____________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ -  29








sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com


Monday, April 6, 2015

निर्वसन संस्कृति खड़ी










     निर्वसन संस्कृति खड़ी 
     -------------------------

       छलावों के 
       और धोखों के पड़ावों में ,
       रह रहे हैं  हम तनावों में । 

       लौह 
       औ ' सीमेन्ट की काया ,
       राक्षसी विज्ञापनी माया ,

       भोगवादी उत्सवों के शामियाने ,
       कोलतारों से भरे 
       ख़ूनी तलाबों में । 

       चेहरे 
       खोये मुखौटों में ,
       निर्वसन संस्कृति खड़ी 
       घर और कोठों में ;

       ज़िन्दगी कुछ के लिए 
       आस्वाद जिस्मों का ,
       और ढोते साँस कुछ 
       जलते अभावों में । 

                     - श्रीकृष्ण शर्मा 

_____________________

पुस्तक - '' एक नदी कोलाहल ''  ,  पृष्ठ - 28








sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com