Saturday, February 28, 2015

मेरी आँखों में हैं आँसू

   मेरी आँखों में हैं आँसू 
   ------------------------

    मेरी आँखों में है आँसू और तुम्हारे होंठ हँसी है ,
    जैसे कोई चंदनगंधा नागों ने पाश में कसी है । 

                कैसी सुरुचि कि हमने गमले रखे कैक्टस के खिड़की पर ,
                किन्तु झाड़ियों तक जा पहुँची अपने आँगन की तुलसी है । 

    दुनियाँ क्या है , सिर्फ सभ्यता का ही आकर्षक विज्ञापन ,
    किन्तु आदमी आदिम युग की तरह आज भी तो वहशी है । 

               बुझती साँसों में न आँच अब यहाँ किसी को पिघलाने की ,
               जहाँ कि चढ़ती हुई उमर ही कंदराती शाम ने डाँसी है । 

    कल तक मैं वह सब जिस पर सदा बैठते ही आये थे ,
    किन्तु आज सब के दिमाग़  में आकर बैठी वह कुर्सी है । 

               यहाँ पड़ी है किसको , पीड़ा जो कि दूसरों की सहलाये ,
               जहाँ सिर्फ़ बदले की ख़ातिर यह रस्मी मातमपुरसी है । 

                                                                   - श्रीकृष्ण शर्मा 

   ---------------------------------------------
     ( रचनाकाल  - 1963 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 67











sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com
    


ज़िन्दगी

      ज़िन्दगी
     ----------

       ज़िन्दगी ऐसी कि जैसे हो कोई मैला बिछौना ,
       या कि चूल्हे पर चढ़ा जैसे कोई फूटा भगौना ;
       या किसी ने भीड़ वाले और चलते रास्ते पर -
       चाट कर जैसे दिया हो फैंक कोई व्यर्थ दौना । 

                      ज़िन्दगी ऐसी कि जैसे डबडबाती आँख कोई ,
                      धूल से जैसे अँटी हो बन्द घर की ताख कोई ;
                      या किसी मजदूर - बस्ती के धुँए में झींकती -सी -
                      रोशनी को ज्यों दबोचे हो  अँधेरा पाख कोई । 

       ज़िन्दगी ऐसी कि जैसे गाँव कोई पत्थरों का ,
       या अजूबों के शहर में हो मोहल्ला सिरफिरों का ;
       या कि  आदमख़ोर जत्थों से निहत्था जूझता ये -
       जंगलों से जा रहा जो काफ़िला कुछ अक्षरों का । 

                                                                            - श्रीकृष्ण शर्मा 

     -------------------------------------------
     ( रचनाकाल - 1963 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 66


sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com








Tuesday, February 24, 2015

चन्द्रमा दोपहर का

                  चन्द्रमा दोपहर का 
                 ---------------------

                       दुपहर है 
                       और अभी ताजा है गुलमोहर ,
                       किन्तु रात देख उठी एक आँख खोल कर । 

                       धूप अभी चिलक रही ,
                       किलक रहा दिवस अभी ,
                       असम्पृक्त हैं अब तक 
                       भिन्न - भिन्न आकृतियाँ ,
                       पानी पर काँप रहीं 
                       विहगों की आकृतियाँ ;

                       रंग - रूप सब सच है ,
                       रेखाएँ जीवित है । 

                       किरणों का महल 
                       अभी हुआ नहीं खण्डहर ,
                       किन्तु एक चमगादड़ उड़ रहा कँगूरे  पर । 

                       दुपहर है 
                       और अभी ताज़ा  है गुलमोहर ,
                       किन्तु रात देख उठी एक आँख खोल कर । 

                                                             - श्रीकृष्ण शर्मा 

-------------------------------------------------
( रचनाकाल - 1963)  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 61














sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

झील रात की

            झील रात की 
           ---------------

               साँझ - सुबह के मध्य अवस्थित झील रात की ,
               भरी हुई है अँधियारे से । 

               नीली - नीली लहर नींद की उठतीं - गिरतीं ,
               अवचेतन मन की कितनी ही नावें तिरतीं ;
               कुण्ठाओं के कमल खिले है -
               सपनों जैसे । 

               साँझ -सुबह के मध्य अवस्थित झील रात की ,
               भरी हुई है अँधियारी से । 

               इसी झील के तट पर पेड़ गगन है वट का ,
               काला बादल चमगादड़ - सा उल्टा लटका ;
               शंख - सीप नक्षत्र रेत में -
               हैं पारे -से । 

               साँझ - सुबह के मध्य अवस्थित झील रात की 
               भरी हुई है अँधियारे से । 

               नंगी नहा रहीं है प्रकाश की लाख बेटियाँ ,
               तट पर बैठीं बाथरूम गायिका झिल्लियाँ ;
               खग चीखे -
               वह डूब रहा है चाँद ,
               बचा लो 
               गहरे में से । 

               साँझ - सुबह के मध्य अवस्थित झील रात की 
               भरी हुई है अँधियारे से । 

                                                                         - श्रीकृष्ण शर्मा 

----------------------------------------------------------
( रचनाकाल - 1965 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 60












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

तार - तार छाया की चुनरी

                             तार - तार छाया की चुनरी 
              -------------------------------

                  मुरझे सब हरियाली - जैसे ,
                  बदले गए सूरज के तेवर ;
                  गरमी के काफ़िले आ गये , आज अतृप्ति धरे कन्धों पर । 

                               पानी पहुँचा है पाताल में ,
                               बची - खुची सब पूँजी लेकर ,
                               भरे हुए रेती से मुट्ठी 
                               नदिया मात्र रह गयी खँडहर ;
                  इन लपटों में प्यास झुलसती , लिए जलन की रीती गागर । 
                  गरमी के काफ़िले आ गये , आज अतृप्ति धरे कन्धों पर । 

                               तार - तार छाया की चुनरी ,
                              हुई धूप के इस जंगल में ,
                              ज्वालामुखी बगूले उगले ,
                              खड़े सभी जैसे मरुथल में ;
                  कौन भला बाहर निकलेगा ,किरणों के हाथों में पत्थर ?
                  गरमी के काफिले आ गये ,आज अतृप्ति धरे कन्धों पर । 

                             कितना कठिन समय आया है ,
                             फूल भोगते है निर्वासन ,
                             पल - पल हुआ काटना मुश्किल ,
                             मनुज अभावों का विज्ञापन ;
                 सीझ रही है देह , ढलेगी कैसे त्रास - भरी यह दुपहर ?
                 गरमी के काफ़िले आ गये ,आज अतृप्ति धरे कन्धों पर । 

                                                                          - श्रीकृष्ण शर्मा 

----------------------------------------------------------------
( रचनाकाल - 1960 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 56












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

कालिदास की आर्द्र व्यथा

         कालिदास की आर्द्र व्यथा 
         ----------------------------

            ग्रीष्म - यज्ञ के बाद मिला है वर्षा का वरदान । 
            अम्बर एक समन्दर , जिसमें मेघों के जलयान । 

             इस बदरौटी के मौसम से 
             शरमाती है घाम ,
             पुरबा पूछ रही है 
             अपराधी लूओं का नाम ;
             तपन उड़ गयी चिड़ियों - जैसी खा बूँदों के बान । 
             अम्बर एक समन्दर , जिसमें मेघों के जलयान । 

             दिन के घर में ब्याह ,
             चँदोबा तान रही है साँझ ,
             मेंढक चारों तरफ बजाते 
             अपनी - अपनी झाँझ ;
             सजता किसी बाराती जैसा , हर बंजर - वीरान । 
             अम्बर एक समन्दर ,जिसमें मेघों के जलयान । 

             फूट पड़ी हरियाली 
             जैसे - हो बरखा का छन्द ,
             किसी यक्ष का है सन्देशा 
             मेघ - पृष्ठ में बन्द ;
             यह असाढ़ है , कालिदास की आद्र व्यथा का गान । 
             अम्बर एक समन्दर , जिसमें मेघों के जलयान । 

             यह सच है , बिजली बादल हैं  ,
             भीग रही है देह ,
             बाहर कीचड़ - फिसलन ,
             भीतर टपक रहा है गेह ;
             कष्ट यही तो उपजायेंगे , यहाँ सुखों के धान । 
             अम्बर एक समन्दर , जिसमें मेघों के जलयान । 

                                                                             - श्रीकृष्ण शर्मा 

         -----------------------------------------
                  ( रचनाकाल - 1960 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 54, 55












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com






Monday, February 23, 2015

चुभती सुधि

               चुभती सुधि
              --------------

                  चुभती सुधि शूल ज्यों करील के । 
                  नैन हम भरे हुए झील के । 

                           ग़ैरों की मर्ज़ी  पर 
                           व्योम में उड़े ,
                           लेकिन मज़बूरी में 
                           टूट कर गिरे ;
                  हम ऐसे पंख अबाबील के । 

                  चुभती सुधि शूल ज्यों करील के । 
                 नैन हम भरे हुए झील के । 

                 तम में हम उजियाला 
                छापते रहे ,
                 अमृत - सी साँसों को 
                 बाँटते रहे ;
                 हम बुझते दीपक कन्दील के । 

                 चुभती सुधि शूल ज्यों करील के । 
                 नैन हम भरे हुए झील के । 

                           राह के किनारे ही 
                           खड़े रह गये ;
                           अपनी बेबसियों में 
                           गड़े रह गये ;
                           जैसे हम पत्थर हों मील के । 

                 चुभती सुधि शूल ज्यों करील के । 
                 नैन हम भरे हुए झील के । 

                                                       - श्रीकृष्ण शर्मा 

             --------------------------------------------
                   ( रचनाकाल - 1959 )  ,  पुस्तक -'' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 53   









sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com
             

Sunday, February 22, 2015

झिनपिन - झिनपिन

          झिनपिन - झिनपिन 
          ------------------------

             झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी ,
             गल -गल टपक रही है चाँदी ;
             लगता बूढ़ी बरखा माई ,बेहद आज थकी औ ' मांदी !
             झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी !

                          बादल जैसे - दूध सफ़ेदी ,
                          सन्ध्या  के बालों पर मेंहदी ;
                          रात कुसुम्बा भरा कटोरा , पीकर है धरती उन्मादी !
                          झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी !

             पवन गड़रिया  , भेड़ बदरिया ,
             मेघ साँवरे गौर बिजुरिया ;
             बरखा ने नभ की खूँटी पर , इन्द्रधनुष की धोती बाँदी !
             झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी !

                          कभी सियाह , कभी हैं नीले ,
                          लाल - बैंजनी - भूरे - पीले ;
                          रंग बदलते नेताओं - से बादल भी हैं अवसरवादी !
                          झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी !

             सुबह सुकेशिनी बंगालिन - सी ,
             दुपहरिया है पंजाबिन - सी ;
             ढलती धूप सुघर कश्मीरिन , रात कि  संथालिन शहज़ादी !
             झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी ! 

                                                                                  - श्रीकृष्ण शर्मा 


            -------------------------------------------------------

                  ( रचनाकाल - 1959 )  .  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर '' ,  पृष्ठ - 52












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com
                

Saturday, February 21, 2015

दिन कुम्हलाया

                       दिन कुम्हलाया 
           ------------------

              धूप ढल रही , दिन कुम्हलाया ,
              सूरज का चेहरा अँधराया । 

                         धुँधलाती आँखों के आगे ,
                         उजियारे ने मुँह लटकाया । 

              ऐसा गिरा - गिरा - सा जी है ,
              जैसे - कोई पहाड़ उठाया । 

                         चुप्पी बैठी है चौराहे ,
                         सड़कों सूनापन तिर आया । 

              रखा हुआ था जो कि ताख में ,
             यादों ने वह दिया जलाया । 

                        अँधियारा इस तरह बढ़ रहा ,
                        जैसे - मँहगाई की काया । 

              दूर - दूर तक नज़र न आती ,
              उम्मीदों की उजली छाया । 

                         कितना कठिन समय आया  है ,
                         अपनापन तक बना पराया । 

             भावों में तो गरमाहट है ,
             पर मौसम कितना ठंडाया ?

                        ऐसे में मन किसे पुकारे ,
                        पास न जब अपना ही साया । 

                                                                    - श्रीकृष्ण शर्मा 

-------------------------------------------
( रचनाकाल - 1958 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर '' ,  पृष्ठ - 47












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Friday, February 20, 2015

ये बदरा

                     ये बदरा
           ---------

               ये बदरा !
               अटका रह गया 
               किसी नागफनी काँटे में ,
               बिजुरी का ज्यों अँचरा !
                            ये बदरा ! !

               जल की चल झीलें ये ,
               उड़ती हैं चीलों - सी ,
               झर - झर - झर झरती हैं ,
               जलफुहियाँ खीलों सी ;

                            पानी की सतह - सतह 
                            बूँद के बतासे ये 
                            फैंक दिए मेघों ने 
                            खिसिया कर पाँसे ये ;

               पीपल जो बेहद खुश 
               था अपनी बाजी पर ,
               उसके ही सिर अब 
               गाज गिरी है अररा 
                           ये बदरा ! !

               व्योम की ढलानों पर 
               बरखा के बेटे ये ,
               दौड़ - दौड़ हार गये ,
               हार -हार बैठे ये ;

                           लेटे - अधलेटे ये 
                           नक्षत्री नैन मूँद ,
                           चंदा के अँजुरी भर 
                           स्वप्न सँजों बूँद - बूँद ;

               अर्पित हो बिखर गये 
               भावुक समर्पण में ,
               टूट गया जादू औ '
               टोनों का हर पहरा !
                           ये बदरा ! !

               बिना रीढ़ वाले ये 
               जमुनी अँधेरे - से ,
               आर - पार घिरे हुए 
               सम्भ्रम के घेरे - से ; 

                           धरती की साँसों की 
                           गुंजलक में बँधे हुए ,
                           आते हैं  सागर की 
                           सुधियों से लधे - फँदे ;

               आँखों में अंकित हैं 
               काया के इन्द्रधनुष ,
               प्राणों में बीते का 
               सम्मोहन है गहरा !
                           ये बदरा ! !

               ये बदरा !
               अटका रह गया 
               किसी नागफनी काँटे में ,
               बिजुरी का ज्यों अँचरा !
                           ये बदरा ! !

                                                             - श्रीकृष्ण शर्मा 

-----------------------------------------
( रचनाकाल - 1959 )  , पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''   , पृष्ठ - 50, 51











sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Thursday, February 19, 2015

मान का एक दिन

           मान का एक दिन 
           -------------------

              मेरे अनबोले का 
              एक बोल गूँज गया ,
              जैसे ये पछुआ 
              मनुहार तुम्हारी ! !

                        मटमैले वर्तमान 
                        ने अपने कन्धों पर 
                        डाली है बीते की 
                        सात रंग की चादर ,

              दुख के इस आँगन में 
              सुधियों के सुख - जैसा 
              सन्ध्या ने बिखराया 
              जाने क्यों ईंगुर ?

                       एकाकीपन में क्यों 
                       लगा और कोई भी 
                       पास ही उपस्थित है ,

              हारे - से मन को 
              कुछ सान्त्वना देती - सी
              खड़क उठी सहसा ही 
              बन्द दुआरी !

                        मेरे अनबोले का 
                        एक बोल गूँज गया ,
                        जैसे ये पछुआ 
                        मनुहार तुम्हारी ! !

              इस फैली पोखर की 
              टूटती लहरियों में 
              टूट -टूट गया 
              खड़ा तट पर जो ताड ,

                        पर जीवन जीने का 
                        आकांक्षी शिखरों पर 
                        चढ़ करके हाँफ रहा 
                       बदरीला साँड़ ;

             दिन भर विलगता की 
             धूप में पके हम - तुम ,

                       गहरे पछ्तावेवश ,
                       इन उदास प्रहारों की 
                       आँखों से एक बूँद 
                       गिर कर बन गयी चाँद ,

             मैं तुम क्या 
             सब स्थित हैं 
             अब उस धरातल पर ,
             जहाँ साम्य -रूपा है 
             आत्मीय अँधियारी !

                       मेरे अनबोले का 
                       एक बोल गूँज गया ,
                       जैसे ये पछुआ 
                       मनुहार तुम्हारी ! !

                                                                    - श्रीकृष्ण शर्मा 

------------------------------------------
( रचनाकाल - 1963 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  , पृष्ठ - 64, 65










sksharmakavitaye.blogspot.in


shrikrishnasharma.wordpress.com





Wednesday, February 18, 2015

समय साँप के खाये - जैसा

      समय साँप के खाये - जैसा 
      ------------------------------
       
        अगहन ठिठुर रहा , पाले ने 
        पियरायी है साँझ सिंदूरी । 

                हँसी - खुशी गरमाहट को 
                ठंडक ने गहरे दफनाया ,
                चहल - पहल ही नहीं , सभी को 
                सन्नाटे ने सुन्न बनाया ;

                           सूरज अभी - अभी डूबा पर ,
                           धूप हुई मृग की कस्तूरी । 

        अगहन ठिठुर रहा , पाल ने
        पियरायी है साँझ सिंदूरी । 

                कुहरे के मोटे परदे के 
                पार नहीं जाती हैं आँखें ,
                किन्तु टँगी रह गयीं दृस्टि की 
                चौखट पर पेड़ों की शाखें ;

                           समय साँप के खाये - जैसा ,
                           कैसे कटे रात की दूरी । 
        अगहन ठिठुर रहा , पाले ने 
        पियारायी हैं साँझ सिंदूरी । 

                सत्याग्रह करती हैं , मन के 
                द्वारे अनागता इच्छाएँ ,
                कब तक अँजुरी भर सपनों से 
                हम अपने अभाव दफनाएं ;
                           चढ़ी जिन्दगी के खाते में 
                           सिर्फ अँधेरे की मजबूरी । 

        अगहन ठिठुर रहा , पाले ने 
        पियरायी है साँझ सिंदूरी । 

                लेकिन अब भी तो कोल्हू पर 
                निशि भर खूब जाग होती है ,
                सच है , वहीं  लोग जुड़ते हैं 
                जहाँ कि एक आग होती है ;
                           यही आग तो काम करती है 
                           मानव से  मानव की दूरी । 

        अगहन ठिठुर रहा , पाले ने 
        पियरायी है साँझ सिंदूरी । 

                                                                       - श्रीकृष्ण शर्मा 
       -----------------------------------------------

         ( रचनाकाल - 1960 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  , पृष्ठ - 57, 58

       

   






sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com


Tuesday, February 17, 2015

'' एक सुबह '' नामक गीत , कवि श्रीकृष्ण शर्मा के गीत - संग्रह - '' फागुन के हस्ताक्षर '' से लिया गया है -

               





एक सुबह  
------------

एक सुबह , सुबह एक दरवाज़े आयी ,
कुहरे में डूबी औ ' ओस में नहायी । 

          ऊँघते दरख्तों को शीश पर उठाये ,
          चिड़ियों ने अलस्सुबह कव्वाली गयी । 

धुँधलाते दृश्यों से दृष्टि - सी  लिपट के ,
खेतों में पगडंडी सहसा अँगड़ायी । 

          इन कच्चे पत्तों की पीठ थपथपाने ,
          हवा सब विकल्पों को लात मार आयी । 

सठियाया पतझर कर चुका आत्महत्या ,
फागुन के हस्ताक्षर , पिकी की गवाही । 

                                       - श्रीकृष्ण शर्मा 

----------------------------------------------
   
पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 46



sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

सुनील कुमार शर्मा 
पी . जी . टी . ( इतिहास ) 
पुत्र –  स्व. श्री श्रीकृष्ण शर्मा ,
जवाहर नवोदय विद्यालय ,
पचपहाड़ , जिला – झालावाड़ , राजस्थान .
पिन कोड – 326512
फोन नम्बर - 9414771867

        

                                                                                                                                                                         

Monday, February 16, 2015

'' तुम नहीं हो इसलिए ही '' नामक गीत , कवि श्रीकृष्ण शर्मा के गीत संग्रह - '' फागुन के हस्ताक्षर '' से लिया गया है -

                                                                             







तुम नहीं हो इसलिए ही
----------------------------

गीत प्राणों का अभी तक होंठ पर आया नहीं है । 
चाहता था मैं जिसे गाना , अभी गाया नहीं है । । 

        भावना का फूल मैं ऐसा खिलाना चाहता था ,
        दृष्टि में हर एक के ही हो बसी जिसकी सुघरता ;
        और जिसकी गन्ध के बादल गगन में छा रहे हों ,
        वृष्टि की हर बूँद में जिसकी बरसती हो तरलता ;

खिल सके जिसमें सुघरतम - गन्धमय कविता - कुसुम यह ,
कल्पना में अब तलक मधुमास वह आया नहीं है । । 

गीत प्राणों का अभी तक होंठ पर आया नहीं है । 
चाहता था मैं जिसे गाना , अभी गाया नहीं है । । 

        चाहता गढ़ना अपरिचित मूर्ति अपनी कामना की ,
        रूप के बादलव  में जिसको तनिक होती न देरी ;
        बन रहा है  एक धुँधला चित्र मेरी चेतना में ,
        ये लकीरें दे नहीं पायीं जिसे अभिव्यक्ति मेरी ;

हू -ब -हू अपने हृदय में जो कि उस छवि को उतारे ,
किन्तु ऐसा सृष्टि में दरपन कहीं पाया नहीं है । । 
गीत प्राणों का अभी तक होंठ पर आया नहीं है । 
चाहता था मैं जिसे गाना , अभी गाया नहीं है । । 

        आज कहना चाहकर भी कुछ न मैं कह पा रहा हूँ ,
        क्योंकि भावुक मन सभी की वेदना से दुख गया है ;
        देख लूँ तो चाँद नभ का भी उतर आये धरा पर ,
        किन्तु मेरी ग़लतियों से आज माथा झुक गया है ,

पूर्ण होकर भी , तुम्हारे बिन सदा ही मैं अधूरा ,
तुम नहीं हो , इसलिए ही प्राण हैं , काया नहीं है । । 

गीत प्राणों का अभी तक होंठ पर आया नहीं है । 
चाहता था मैं जिसे गाना , अभी गाया नहीं है । । 

                           - श्रीकृष्ण शर्मा 

-------------------------------------------------------
पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 48, 49

sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

सुनील कुमार शर्मा 
पी . जी . टी . ( इतिहास ) 
पुत्र –  स्व. श्री श्रीकृष्ण शर्मा ,
जवाहर नवोदय विद्यालय ,
पचपहाड़ , जिला – झालावाड़ , राजस्थान .
पिन कोड – 326512
फोन नम्बर - 9414771867

Sunday, February 15, 2015

ख़रीफ़ का गीत

           ख़रीफ़ का गीत 
      ------------------

          सिर से ऊँचा खड़ा बाजरा , बाँध मुरैठा मका खड़ी ,
        लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी |

                      पाँव सरपतों पर धर करके 
                      हवा चल रही है सर - सर ,
                      केतु फहरते हैं काँसों के 
                      बाँस रहे हैं साँसें भर ;

        पाँव गड़ाती दूब जा रही , किस प्रीतम के गाँव बढ़ी |
        लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी |

                      सींग उगा करके सिंघाड़ा 
                      बिरा रह मुँह बैलों का 
                      झाड़ और झंखाड़ खड़े हैं 
                      राह रोक कर गैलों का ;

        पोखर की काँपती सतह पर , बूँदों की सौ थाप पड़ीं |
        लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी |

                      घुइयाँ बैठी छिपी भूमि में 
                      पातों की ये ढाल लिये ,
                      लेकिन अपनी आँखों में है 
                      अरहर ढेर सवाल लिये ;

        फिर भी सत्यानाशी के मन में हैं अनगिन फाँस गड़ी |
        लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी |

                      पके हुए धानों की फैली 
                      ये जरतारी साड़ी है ,
                      खण्डहर की दीवारों पर ये 
                      काईदार किनारी है ;

        छोटे - बड़े कुकुरमुत्तों ने पहनी है सिर पर पगड़ी |
        लगी ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी |

                      ले करके आधार पेड़ का 
                      खड़ी हुई लंगड़ी बेलें ,
                      निरबंसी बंजर के घर में
                      बेटे - ही - बेटे खेलें ;

        बरखा क्या आयी , धरती पर वरदानों की लगी झड़ी |
        लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी |

         
                                                                           - श्रीकृष्ण शर्मा 

        -------------------------------------------------------------

       ( रचनाकाल - 1957 )  , पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर '' , पृष्ठ - 41, 42

         











sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com
        

Saturday, February 14, 2015

'' उत्तर रामचरित के पन्ने '' नामक गीत , कवि श्रीकृष्ण शर्मा के गीत - संग्रह - '' फागुन के हस्ताक्षर '' से लिया गया है -

                 


   
      
उत्तर रामचरित के पन्ने 
----------------------------
फिर अम्बर में बादल घुमड़े ,
फिर आँखों में आँसू आये |

       चन्दा को पाने की खातिर ,
       सेतु बनाया फिर सागर ने ;
       रहे न धरा - गुजरिया सूखी ,
       फोड़ दिया घट नटनागर ने ;
       देहरी भीगी , द्वरा भीगा ,
       जब पानी ने हाथ छुआये |

फिर अम्बर में बादल घुमड़े ,
फिर आँखों में आँसू आये |

       मेघों की काली चादर पर ,
       इन्द्रधनुष किरणों ने छापा ;
       निज हथेलियों से बदली ने 
       सूरज की आँखों को ढांपा ;
       रात खोल दिन का दरवाज़ा
       भीतर आयी बिना बताये |

फिर अम्बर में बादल घुमड़े ,
फिर आँखों में आँसू आये ;

       फिर कुछ ऐसा लहरा आया ,
       जिसने डाला भिगो बिछौना ;
       सभी जगह कीचड़ - फिसलन है ,
       कहाँ रुके यह मन का छौना;
       फिर कुछ ऐसी विधुत् तड़की ,
       जिसने दरपन तक चटकाये ;

फिर अम्बर में बादल घुमड़े ,
फिर आँखों में आँसू आये |

       बरखा के पाँवों की आहट
       सुनकर रोमांचित हरियाली ;
       धुआं - धुआं  अम्बर का चेहरा ,
       मंच हुआ तारों से खाली ;
       जो कि तिमिर में जले ऊम्र भर ,
       वही सभा से गये उठाये ;

फिर अम्बर में बादल घुमड़े ,
फिर आँखों में आँसू आये |

       बरस पड़ीं रिमझिमें धूल पर ,
       मार रही ताने पुरवाई ;
       लेकिन किसी दुखान्त काव्य की 
       जीवन बना रहा चौपाई ;
       मौसम की मनमानी सहते ,
       हम ताशों - जैसे बिखराये |

फिर अम्बर में  बादल घुमड़े ,
फिर आँखों में आँसू आये |

       खड़ा हुआ है आज निर्दयी 
       बौछारों में भावुक परिचय ;
       छोड़ रही है मजबूरी में 
       मन की सीता सुख का आश्रय ;
       उत्तर रामचरित के पन्ने ,
       लिख - लिखकर भवभूति पठाये |

फिर अम्बर में बादल घुमड़े ,
फिर आँखों में आँसू आये |

                                     - श्रीकृष्ण शर्मा 



( कृपया इसे पढ़ कर अपने विचार अवश्य लिखें | आपके विचारों का स्वागत है| धन्यवाद | )

-----------------------------------------

पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर '' , पृष्ठ - 43, 44, 45

sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

सुनील कुमार शर्मा 
पी . जी . टी . ( इतिहास ) 
पुत्र –  स्व. श्री श्रीकृष्ण शर्मा ,
जवाहर नवोदय विद्यालय ,
पचपहाड़ , जिला – झालावाड़ , राजस्थान .
पिन कोड – 326512
फोन नम्बर - 9414771867