Saturday, January 31, 2015

विश्वास है हाथों में हमारे !

    विश्वास है हाथों में हमारे !  
   -----------------------------

   खजैले कुत्ते का त्रास कौन जानता है ,
    हकलाहट को अनुप्रास कौन मानता है ,
    तेली का बैल हो या इक्के का घोड़ा -
    लाशों के लिए युद्ध कौन ठानता है ?

    फिर -
    अंधों के आगे 
    ये सब बनाव क्यों है ?
    गूँगों और बहरों से भी दुराव क्यों है । 

    जानते हैं हम 
    लँगड़ी - बौनी ज़िंदगी का 
    बैसाखियों वाला जुलूस 
    कुछ पन्नों तक जायेगा ,
    और 
    उपलब्धियाँ उसकी 
    आम नहीं , कुछ ख़ास के ही दाय में आयेंगी । 

    हम यह भी जानते हैं 
    चंद झंडाबरदारों का प्रवक्ता 
    यह इतिहास असत्य है , 
    जो 
    नहीं दुहराता 
    जान - लेवा संघर्ष 
    हम - जैसे सामान्य जनों का । 

    पर हम जानते हैं 
    शक्ति और सामर्थ्य बढ़ती हैं 
    जिस तेज़ी से / बह जाती हैं उसी गति से ,
    और 
    रह जाते हैं 
    असमर्थताओं के ढूह 
    और उन पर खड़े चंद बुत ,
    - असफलताओं के । 

    इसलिए 
    विश्वास है 
    हाथों में हमारे 
    सदैव नहीं रहेगा 
    अब घुटन और यंत्रणाओं का 
    - एक छोर । 

                                                     - श्रीकृष्ण शर्मा 

     --------------------------------------

( रचनाकाल - 1973 )  ,   पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''   /  पृष्ठ - 81, 82



   





sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

                                                                                                                                                                  

Friday, January 30, 2015

अक्षरों के सेतु

                                                                                                                       अक्षरों के सेतु 
     ----------------
     छटपटाती भावनाएँ ,
       चेतना - हत कामनाएँ ,
       औ ' अपाहिज - से पड़े संकल्प । 

       घेर कर बैठे 
       फरेबी - स्वर्थी - लोलुप - दरिन्दे 
       भेड़िये औ ' सर्प । 

       भूख - निर्धनता - अभावों के 
       विकट लक्षागृहों में 
       राख होता सूर्य । 

       चक्रव्यूहों में फँसी 
       यह ज़िंदगी संघर्ष - रत है ,
       आत्म - रक्षा हेतु । 
       
       पर 
       कुचक्री सिन्धु के उस पार तक 
       निश्चय रचूँगा ,
       अक्षरों के सेतु । 

                                                     - श्रीकृष्ण शर्मा 

     --------------------------

        ( रचनाकाल - 1974 )   ,  पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  /  पृष्ठ - 95

 
       
   
       





sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com



जब खोलकर आँखें देखूँगा मैं !

                                                                                                                      जब खोलकर आँखें देखूँगा मैं !
    -----------------------------------
    माना 
     विवश हूँ मैं 
     और निरुपाय भी , 
     किसी गाय की तरह । 

     किन्तु 
     अच्छा नहीं लगता 
     सिर झुकाये अथवा टिकाये 
     हाथ पर ठुड्डी बैठ जाऊँ 
     भय से स्तब्ध किसी अँधेरी खोह में 
     सिमट कर निस्पन्द ,
        किसी ख़रगोश - जैसा । 

     अब तक जो खड़े थे 
     या खड़े हैं मेरे पाँवों पर 
     अथवा सीढ़ी बना कर मुझे 
     ऊपर चढ़ने वाले मौक़ापरस्त ,
     बन चुके हैं इतने निर्मम और नृशंस 
     की क़फ़न नोंचने 
     और बेचने में साँसे तक मेरी 
     गुरेज़ नहीं है उन्हें । 

     जो लोकतंत्र की समूची ताक़त 
     कोकाकोला की तरह 
     उतार कर मेदे में 
     संतोष की लम्बी डकार लेते , 
     बैठे हैं मेरी ठठरियों पर अकड़ कर ,
     भोगते रहेंगे कब तक बादशाहत 
     डाकुओं की तरह । 
     आख़िर तय है 
     यह गंदा ख़्वाब ख़त्म हो जायेगा ,
     जब खोल कर आँखें 
     देखूँगा मैं । 

                                                      - श्रीकृष्ण शर्मा 

    -------------------------

    ( रचनाकाल - 1976 )   ,  पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  /  पृष्ठ -93, 94












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Thursday, January 29, 2015

नहीं मरूँगा मैं

                                                                                                                        नहीं मरूँगा मैं 
      ----------------
      क्या हुआ ?
        जो ज़िन्दगी जीना नहीं आया ,
        मगर मैं मौत से भी तो न घबराया । 

        नहीं 
        मैंने नहीं पाया 
        प्रशिक्षण युद्ध - कौशल का 
        मगर भागा नहीं मैदान से दहशतज़दा होकर ,
        नहीं आतंक के आगे समर्पण ही किया मैंने । 

        दिया मैंने स्वयं को आँसुओं का अर्ध्य 
        अपने रक्त से मैंने किया अभिषेक ,
        निरन्तर विष पिया मैंने 
        नरक की यातनाओं का । 

        मगर हरा नहीं लड़ता रहा 
        क्रमशः सभी कटते गये ये अंग ,लेकिन 
        जंग में जीवित बचा हूँ मैं । 

        बचा हूँ मैं 
        बचाये हूँ अभी तक आग 
        बुझते किसी कोने में । 

        किसी हारे हुए 
        संघर्ष से ऊबे हुए 
        किसी ठण्डाते हुए मन में ,
        की जब तक रोप पाऊँगा नहीं ये पौधा ,       
        - नहीं तब तक मरूँगा मैं । 

                                                                 - श्रीकृष्ण शर्मा 

       ------------------------------------------

       ( रचनाकाल - 1975 )      ,  पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  /  पृष्ठ - 87


     










चलते हुए अँधेरे में

             चलते हुए अँधेरे में 
        ----------------------
         चलते हुए अँधेरे में 
            ठोकर लगी थी अचानक 
            और निकल आया था अँगूठे से ख़ून 
            जो बहता रहा था देर तक 
            और 
            गिर - गिर कर ज़मीन में 
            जज्ब हो गया था 
            - यों ही बेकार । 

            किन्तु दर्द अब भी है । 

            कौंध जाता है तभी 
            अचानक वह लहू 
            आँखों में ,
            उजालों से भरता हुआ    
            - शहीदों का । 

            सचमुच , लहू 
            और लहू के पीछे छिपा 
            वह जज्बा ही बकमाल होता है 
            - जो बदल देता है रंगत 
            और असर 
            ख़ून का । 

                                                                - श्रीकृष्ण शर्मा 

           -------------------------------
 
              ( रचनाकाल - 1975 )          ,      पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  /  पृष्ठ - 86













sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

        

Wednesday, January 28, 2015

ख़ौफ़ से भरे हुए

          ख़ौफ़ से भरे हुए
      -------------------
      चन्द लम्हों पहले 
        इसी रास्ते तो गया है जुलूस 
        
        सीना फाड़ कर निकलीं 
        उसके नारों की आवाज़ें 
        उद्वेलित कर रहीं हैं सीने 
        हवाओं में फैलती हुई । 

        उसके बढ़ते पाँवों के निशान 
        गड़ कर रह गये हैं सड़क में ,
        कोलतार का बदन बन गया है 
        उसकी अपार ऊष्मा का संवाहक । 

        हाथ फैलाये माँग रहे हैं दुआएँ 
        किनारों पर खड़े पेड़ 
        जुलूस के जाँबाज़ नौजवानोँ के लिए । 
        जिन्होंने लिखा है - 
        भूख ग़रीबी और ताकत के ख़िलाफ़ 
        आत्म - सम्मान , समानता और आज़ादी के उसूलों को 
        - अपने ख़ून  से । 

        किन्तु फ़क हैं चेहरे ,
        जैसे - निचुड़ गया हो लहू 
        बिना लड़े बेमतलब बूँद - बूँद ,
        ख़ौफ़ से भरे हुए 
        - तमाशबीनों के । 

                                                                 - श्रीकृष्ण शर्मा 

       ---------------------------------

       ( रचनाकाल - 1975 )    ,    पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  / पृष्ठ - 85

  






sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Tuesday, January 27, 2015

अभिमन्यु की हत्या

                अभिमन्यु की हत्या
          ----------------------

                छेदकर 
              जैसे - कलेजे में 
              गगन के कील 
              हत्यारे - सरीखा है खड़ा 
              दुर्दम्य - ऊँचा ताड़ ,
              बौने पेड़ ठठ - के - ठठ
              अवस - निरुपाय । 

              जैसे - 
              द्रौपदी कौरव - सभा में 
              लाज को रोती ,
              दुःशासन पाशविकता से लगाता क़हक़हे ,
              सहमा हुआ स्वर सुन नहीं पड़ता 
              निरर्थक शोर में । 

              आसनों धृतराष्ट्र की औलाद
              बैठी भोगती सुख और सुविधा 
              पाण्डवों का हक़ । 

              और 
              रच दुष्चक्र ,
              जन - जन को रुपहली ज़िन्दगी से काट 
              निर्वासन - अवधि को काटने 
              भेजा किसी अज्ञात पथ पर 

              और 
              मँहगाई - अभावों का बना कर व्यूह ,
              मार डाला 
              चेतनायुत - ऊर्जस्वित अभिमन्यु । 

                                                                                                          - श्रीकृष्ण शर्मा    

          ---------------------------------------------

( रचनाकाल - 1973 )     ,          पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''   /  पृष्ठ - 80


 










sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Monday, January 26, 2015

सम्भावनाओं के नागपाश

              सम्भावनाओं के  नागपाश               
       ------------------------------

                 दिन की देहरी पर बैठी
              धूप के पास आये थे कभी
              स्वर्ण - हंस ।

              और
              क्रान्तिधर्मा चेहरे
              चमकाये थे सूरज ने
              रोशनी से ।

              लेकिन
              भर दोपहर
              बड़ी ही चालाकी से
              खुदगर्ज़ सुविधा - भोगियों ने
              काट दिये उनके डैने ।

              और जकड कर
              रुपहली सम्भावनाओं के नागपाश में
              छोड़ दिया है उन्हें
              रात से घिरे
              अन्धे यातना - शिवरों में
              सिर्फ अंधकार बटोरने के लिए ।

                                                                                          - श्रीकृष्ण शर्मा

            ----------------------------------------------

            ( रचनाकाल - 1973 )  ,    पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''    /  पृष्ठ - 77












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com


         

Sunday, January 25, 2015

विडम्बना

       विडम्बना                
       -----------                                                                                                                                                
         हम छटपटाते रहे 
         सुविधाओं के लिए 
         किन्तु अभाव हम पर हँसते गये ,
         हम कसमसाते रहे स्वतंत्रता के लिए 
         किन्तु दबाव हमको कसते गये । 

         बदसूरत दुर्भाग्य की छाया में 
         हमें असफल होना ही था ,
         किन्तु अकर्मण्य सिद्ध हुए हम 
         समस्याओं के सामने । 

         और 
         समस्याएँ भी एक नहीं 
         दो नहीं , एक के बाद एक 
         एक के साथ अनेक 
         - लम्बा सिलसिला -
         इंटरव्यू के बेमानी बदज़ायक़ा प्रश्नों - जैसा ,
         और 
         हमारा धैर्य चुकता गया 
         और हमारा माथा झुकता गया । 

         तभी 
         वे आये
         और हमें देखकर 
         हमारे चेहरे पर उभरे 
         किसी अदृष्ट लेख को पढ़कर 
         वे हँसते गये । 

         और हम 
         अपनी ही असमर्थताओं की लज्जा में 
         धँसते गये गहरे 
         बहुत गहरे 
         और
         हमारी यह गहराई ही 
         उनकी नींव है ,
         जिस पर उनके प्रासाद खड़े हैं ,
         और हम आज भी धरती में गड़े हैं । 

                                                                                            - श्रीकृष्ण शर्मा 

          ----------------------------------------------

( रचनाकाल - 1973 )       ,   पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''    /  पृष्ठ - 78, 79













sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Saturday, January 24, 2015

आख़िर फ़र्क़ क्या पड़ा ?

आख़िर  फ़र्क़  क्या पड़ा ?  
---------------------------                         

ऐसी बेरंग 
और बदमज़ा 
तो नहीं रही कभी 
आज  जैसी ये ज़िन्दगी  

कितना बेमानी रहा 
तहख़ानों  से निकल कर 
खुली हवा में आने का अहसास 

पता नहीं 
कब हुआ ये 
कि हमारे आक़ा 
जाते - जाते छोड़ गये 
अपने औरस पुत्र हमारे बीच 
जो बन बैठे हमारे वैधानिक सरपरस्त 

आख़िर फ़र्क़ क्या पड़ा ?

ज़रख़रीद ग़ुलाम 
ढोर - डंगर या क़ैदी 
फ़र्क़ ही क्या है होने का /
न होने का इनके लिए 

घुटन 
जो भीतर है 
बाहर भी वही तो है 

हक़ है 
लेकिन नहीं हैं 
सुख - सुविधाएँ भोगने का 
पाक़ - साफ़ लफ़्ज़ ,लेकिन 
उनका ये अर्थ और व्याख्या ? 
आख़िर व्याख्याकार तो वे ही हैं ,
जो ढालते हैं -

जुनूनी नारे 
जादुई वक्तव्य 
इंद्रधनुषी आश्वासन / और 
आने वाले दिनों के सुनहरे सपने 
जो 
पस्तों और खस्ताहालों की बहबूदी 
और मुल्क़ की सलामती के नाम पर 
कम अक़्ल और बुज़दिलों को बचाते 
- और इस तरह सुरक्षित रखते हैं 
अपने आपको 

आज बन गया है 
हमारा सम्पूर्ण तंत्र 
झूठ और फ़रेब का अभेध दुर्ग 
- खूँखार भेड़ियों के लिए 
ठीक वैसे ही जैसे पहले था 

ऐसे में - 
पर्तों - दर पर्तों  और 
तरह - तरह के मुखौटों के पीछे से 
आती आवाज़ को सुनो 
ग़ौर से सुनो 
और पहचानो 
कि कौन है अपने बीच 
- वह ख़ूनी पिशाच ?
ता कि 
मुक्ति पाने के लिए उससे 
बड़ी ही चालाकी और होशियारी से 
पेबस्त कर सको मात्र एक अदद गोली 
उनके सीने में 
- दहशत की । 

                                                                                - श्रीकृष्ण शर्मा 

------------------------------------------

( रचनाकाल - 1976 )   ,    पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''   /  पृष्ठ - 88, 89, 90


  










sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Friday, January 23, 2015

जंगल अब नगर में है

      जंगल अब नगर में है 
    -------------------------                       

       टँगा है सूचनापट 
     ' खतरा है आगे । '

     नहीं है अब 
     सुरक्षित 
      बढ़ना 
      जंगल में 

      भीतर 
      नगर में 
      शोर है 
      गहमा - गहमी है 
      उष्णता शीत औ ' नमी है 
      - ये सब : नहीं हैं 
      जंगल में 

      जंगल में 
      जंगल नहीं है 
      संग्रहालय में है अब 
      और संग्रहालय 
      नगर में 

      जंगल अब नगर में है । 

                                                                         -  श्रीकृष्ण शर्मा 

      ------------------------------

( रचनाकाल - 1974 )         ,   पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  / पृष्ठ - 76













sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

टूटी टाँग और जंगल नागफनी का

टूटी टाँग और जंगल नागफनी का     -----------------------------------
टूट गई है
चार में से एक टाँग ,
- चारपायी की
और लगा दी है मैंने
उसके नीचे तीन ईटें ,
जो अंग नहीं बन पायीं
प्लास्टिक सर्जरी के अभाव में ,
इसलिए चारपाई जाती है जहाँ ,
वहाँ ले जायी जाती हैं अलग से ईटें भी ।
ईटें : बैसाखी : लीवर :
यहीं है संतुलन लँगड़ी जिंदगी का ,
- बोझ का उठाना और रखना ।

अलमारी नहीं है ,
है सिर्फ़ बाबा आदम का बक्स ,
और उसमें भी नहीं है ढँकना 
इसलिए उसका ढँकना न ढँकना
- समान हैं  दोनों ,
किन्तु
उसमें पुरानी किताबें हैं
कपड़ों की जगह ,
अर्थात
वह वहाँ नहीं है
जिसको जहाँ होना चाहिए  ।
यही  जानकारी है -
असंतोष , अशांति , क्रांति ,
और इसका अज्ञान :
आध्यात्मिक  ज्ञान ।
इज़ारबंद ,
फटे पाजामे का
आज अलगनी है ,
शोभा बढ़ा रहा है जिसकी
क्षमा माँगने वाला बीस स्थानों पर
मेरा इकलौता कुर्ता ।
सम्पूर्ति का यह ढंग :
क्या कहूँ इसे - गाँधी , मार्क्स अथवा युंग ?

कमरे में
दस वर्ष पूर्व का कैलेण्डर
समय के हाथों पराजित ये कालपुरुष ,
जो सात दिनों की परिधि में
सँजोये है समस्त तिथियों को,
पर अपना सम्बन्ध तोड़ कर दिनों से
आज कालातीत हैं जिसकी तिथियाँ
वर्तमान में रहते हुए ,
ख़रीदा था मैंने लक्ष्मी -पूजन के लिए ,
किंतु लक्ष्मी चित्र रहा गयी ,
और तब से आज तक
पूजता आ रहा हूँ मैं
उलूक को ।
साधारण व्यक्ति ही
पहुँचते हैं ,
साधारणीकरण की इस स्थिति तक ।

मैं यन्त्र नहीं हूँ ,
पर बना दिया है यन्त्रवत् मुझे
अभावों ने ,
और आज -
मैं भूख बुझाता हूँ काग़ज़ से
और भाग्य चमकाता हूँ काली स्याही से ।
बन गयी हैं बैरोमीटर
मेरी मुट्ठियाँ ,
जो बंधती चली जाती हैं
ठण्ड बढ़ने के साथ - साथ
और गर्मी के साथ - साथ
पिघलने लगती हैं ।

मेरी प्रतिक्रिया के फलस्वरूप
आज घूम कर रह जाते हैं
मेरे काँटे
मैं असमर्थ हूँ
दूसरों के काँटे घुमाने में ।

मेरा ज्ञान
परिचित है भली - भाँति
आकाश के एक - एक नक्षत्र - पिण्ड से ,
किंतु  नित्य देख कर भी
जान नहीं पाया
आदमी को ।

इतनी छोटी हो गयी हैं
आज मेरी सीमाएँ सिमट कर ,
कि मैं जगह नहीं बना सकता
तुम्हारे लिए भी ।

किन्तु बाहर
दौड़ रही है
ढेरों धूल हवा के पीछे
और साथ दे रहे हैं उसका
खड़खड़ाते पत्ते ,
निश्चेष्ट खड़े हैं
संगीहीन प्रेत जैसे तरु ,
ठकठका उठते हैं जिनके कंकाल जब - तब ।

इस भयावह एकांत के ये विवर्त
जैसे लगती चली गयी हों गाँठ पर गाँठ
जिससे गुठ्ठल होकर रह गयी है मेरी  सामर्थ्य

अनसुलझी समस्याओं के आगे
सिर झुकाये खड़ी है बुद्धि
अपराधिनी - सी
और
कोई निर्णय नहीं दे पाता
न्यायाधीश के आसन पर बैठा हुआ
- मौन ।

तितर - बितर होता चला जा रहा है सब कुछ ,
किन्तु नहीं आयी है स्थिति अभी
आत्म - घात की ।

                                                                                   - श्रीकृष्ण शर्मा

-----------------------------------------

( रचनाकाल - 1967 )  , पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  / पृष्ठ - 72, 73, 74. 75














sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Thursday, January 22, 2015

मलवे का एक ढेर

       मलवे का एक ढेर
   --------------------

      उबड़ - खाबड़ को कुचल कर ,
    कहाँ आ गया है -
    बढ़ता हुआ शहर ?
    - आड़ में ,
    - पहाड़ में ।

    मैनें तो कुछ नहीं किया ,
    बैठा ही रहा ,
    मगर फ़ासला कट गया है ।
    कुछ भी तो नहीं कहा ,
    पानी भी नहीं पिया ,
    मगर राह में आया
    - दरिया हट गया है ,

    डट गया है
    कोई कुत्ता
    हड़बड़ा कर सामने ,
    जंगल आ गया है
    दूर से आती हुई
    पहाड़ियों का हाथ थामने ,
    और
    खड़ा है
    कुछ पेड़ों के सहारे ।

    जमीन से लगीं
    जमुहाती झाड़ियाँ
    मारती हैं खिसिया कर
    चिड़ियों के ढेले ,
    पगडंडियों को पकड़ कर 
    चल रहे हैं खेत 
    और 
    पथरीली चट्टानों ने 
    पीस कर धर दिया है 
    रेत । 

    उकताये  हुए 
    आसमान से कानाफूँसी करते
    सागौन और बरगद 
    इकलसुहा इमली के ठूँठ को 
    चिढ़ाते हैं मुँह 
    कभी - कभी । 

    विवशता में 
    सूखे तालाब की बदनसीबी पर 
    झींकती घास ,
    सिर उठा - उठा कर 
    टोहते धान 
    पटकते हैं पीठ से 
    हवा को । 

    सामाधिस्थ है -
    पत्थर पर 
    उभरा संसार 
    अपनी नियति के 
    दुर्वह शव को उठाये ,
                
    अर्थहीन इयत्ता के 
    अप्रिय प्रश्नों की खरौंच ,
    दो टूक उत्तर के लिए 
    बार - बार आवाज़ लगाता 
    सोच ,
    समय से हारा 
    जिंदगी का यह बिखरा खण्डहर ,
    समेटे है -
    टूटन - घुटन - उत्पीड़न ,
    पत्थरों में लड़खड़ाता है 
    और पत्थरों में 
    घुट - घुट कर मर जाता है । 

    ठण्डाई आकांक्षाओं 
    बुझे संतापों 
    अपाहिज सौंदर्य 
    और कठियाई संवेदनाओं 
    - में से भी कुछ टीसता है । 

    खीझता है बियाबान 
    मनुष्य के अहम् पर ,
    स्वयं पर आये 
    गुमनाम संकटों की सलीब पर टँगा ,

    अपने ही 
    रक्त में रंगा हुआ 
    यह अकेलेपन  का अहसास ,
    - नंगा सो रहा है ,
    वर्तमान की जाँघ पर 
    नपुंसक मलवे का एक ढेर । 

                                                                                                   - श्रीकृष्ण शर्मा 

               -------------------------------------

( रचनाकाल - 1973 )    , पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  /  पृष्ठ - 69, 70, 71













sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com


Wednesday, January 21, 2015

नहीं किये हैं हस्ताक्षर मैनें

                 नहीं किये हैं हस्ताक्षर मैनें 
           ------------------------------          

               मैं प्रस्थापित नहीं हुआ
               झूठे विश्वासों पर ,
              गवाह है -
              यह सन्नाटा ,
              घुलता चला जा रहा है जो
              धूँए - सा उत्सवों में ।

              धुंधलाया नहीं
              मेरा जाग्रत  आत्म - बोध
              षड्यंत्रों के संदिग्ध परिवेश में भी ,
              मेरी चेतना ने
              कोशिश की है
              विभिन्न आयामों और कोणों से
              सुघर - सुडौल चेहरे उकेरने की
              विसंगतियों की पृष्ठभूमि में ।

              मैं रात से हारा नहीं ,
              गवाह हैं -
              मुक्त होती दिशाएँ
              धुंध और कुहासे की बाँहों से  ,
              जो झेल रही हैं अब
              दिन की पहली किरण
              अपने माथे पर ।

              मैनें
              गला  नहीं घोंटा सत्य का
              किसी अवैध संतान की भाँति ,
              असमर्थित प्रतिभाओं का
              अनौपचारिक समर्थन किया है मैंने ,
              हृदय के समस्त ममत्व से
              उनके उपेक्षित और तिरस्कृत व्यक्तित्व को
              मैंने जलाया है मोमबत्ती - जैसा
              और प्रकाशमान बनाया है ।
              सामाजिकता की
              अनेक प्रताड़नाओं
              और लांछनों की भीड़ में
              असमाप्त रही है एकांतिकता ,
              गवाह हैं -
              मेरी वे उदात्त आकांक्षाएँ ,
              जो जन्मने के पूर्व ही मर गयीं ,
              मेरी वे उदास प्रार्थनाएँ
              जो अनुत्तरित रह गयीं ,
              मेरी वे अकल्पनीय शाश्वत यंत्रणाएँ
              जो जीवित  रहेंगी
              अगले क्षण भी ।

              मैं जानता हूँ -
              दुलरायी नहीं जावेंगी मेरी पीड़ाएँ ,
              सुरक्षित रखा जायेगा मेरा इतिहास
              संभावना नहीं है मुझे ,

              लेकिन
              छटपटा रही है
              मुक्ति पाने को मेरी जो घुटन ,
              क्या करूँ मैं उसके लिए ?
              मैं जानता हूँ -
              मेरी अभिव्यक्ति की नियति है
              अपरिचय की मृत्यु ।

              फिर भी -
              समर्पित नहीं हुआ मैं
              अस्वाभाविकताओं   को ,
              मैं विसर्जित नहीं हुआ विफलताओं में ,
              गवाह हैं -
              मेरे समक्ष रखे
              पश्चातापों के कोरे संधि - पत्र ,
              जिन पर
              आज भी नहीं किये हैं हस्ताक्षर मैंने ।

                                                                                                      - श्रीकृष्ण शर्मा 
       
            -----------------------------------------------------------

( रचनाकाल - 1966 )   ,  पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु ''  / पृष्ठ - 66, 67, 68














sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Tuesday, January 20, 2015

कहाँ है सूर्यमुखी ?

             कहाँ है सूर्यमुखी ?
         --------------------  
              हे प्रभु !
              कहाँ है सूर्यमुखी
              मेरी आकांक्षाओं का
              वह प्रकाश - पिण्ड कहाँ है
              जिसके आभाव में
              अंधी हैं मेरी आँखें
              बहरे हो गये हैं मेरे कान
              जिससे बिछुड़ कर
              प्रताड़नाओं और अवमाननाओं के तीव्र स्वरों में
              मेरी वाणी मूक हो गयी है
              लूले हो गये हैं हाथ
              और पाँव लंगड़े
              विलगाव होते ही जिससे

              मेरे अदम्य उत्साह
              अपराजेय पौरुष
              और अनंत शक्ति का वह स्रोत /जो
              मेरी धमनियों और शिराओं में
              बहता था अजस्र गति से
              सूख गया है ।

              मेरे प्रयत्न
              पीड़ित हैं पक्षाघात से
              और भाग्य क्षय से ग्रसित

              धूलि -धूसरित है
              रोली मेरे मस्तक की
              काट दिये गये हैं डैने मेरी उड़ान के
              और मैं
              बंदी हूँ ध्रुव प्रदेश में
              दीर्घकालीन रात्रि का
              दिन - रात के इस जीवन - व्यापी युद्ध में
              चारों और शत्रुओं से घिरी ।

              ज्ञात नहीं है मुझे
              मस्तिष्क है या नहीं
              ह्रदय है या नहीं मेरे पास
              सोच - समझ अनुभूति - संवेदन कहाँ हैं सब ?
              शायद एक यंत्र - मात्र रह गया हूँ मैं
              जिसमें एक विशेष प्रकार की प्रतिक्रिया होती है
              एक विशेष बटन दबाये जाने पर
              मुखापेक्षी हूँ मैं
              किसी साधन का
              पर शीश के ऊपर हैं सप्तर्षि
             जिन्हें नीचे नहीं उतार पा रहा मैं
             लाख सिर पटक कर भी |

             ओझल है ध्रुवतारा
             और दिशा - ज्ञान भ्रम में है
             घूम रहे हैं तेजी से अनगिनत नक्षत्र - पिण्ड
             किसी आकर्षण की परिधि में
             पर छिटका हुआ
             गुरुत्वाकर्षण से मैं
             किस अबूझे चक्रवात
             किस अपरिचित धूमकेतु ने जकड़ लिया हूँ |

             उठ खड़ी हुई है
             संघर्षों की ऐसी भीड़
             जो रोंदती चली जायेगी
             मेरे सम्पूर्ण व्यक्तित्व को
             और सांसें तोड़ता हुआ वर्तमान
             भविष्य के अंधकार में
             आँखेँ मींच लेगा |
                                                                             
                                                                                             - श्रीकृष्ण  शर्मा 

          -------------------------------------

         ( रचनाकाल - 1966 ) ,  पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु '' / पृष्ठ-63, 64. 65
           


                                                                                                                                                                               







sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Monday, January 19, 2015

तुम बिन अधूरा मैं !

        तुम बिन अधूरा मैं !
      -----------------------

       ओ मेरे परिचय ,
       मैं तुमसे बिछुड़ करके
       बन गया स्वयं को ही
       आज एक अजनबी हूँ ।

       मेरे दृग ,
       दृष्टि की तुम्हारी  परिधियों  से
       दूर हुआ में
       सब कुछ देख कुछ न देखता ।

       ओ मेरे स्वर ,
       तुमसे वंचित मैं आज यहाँ
       सब कुछ सुन रहा
       मगर कुछ न सुनायी  पड़ता ।

       शब्दों का बोझ लिये
       मैं अब भी शब्दहीन
       - अर्थ नहीं बन पाया ।
       आत्मलीन होकर भी
       भावों के अँधियारे
       गलियारों के उन
       गुलाबों की छवि को मैं
       इस क्षण तक
       अपने इन गीतों के रेशम में
       - बांध नहीं पाया ।

       अब भी -
       अतीत के
       वे बिम्ब पारदर्शी सब
       तुमने जो
       मेरे इन प्राणों पर छोड़ दिये
       - बेहद ही उजले हैं ,
       उनके वे रंग
       अभी धुँधले पड़े नहीं !

       हरदम -
       वे  पगडंडी ,
       सीढ़ी के वे घुमाव ,
       घर के कोने - अँतरे ,
       ऑंगन की तुलसी ,
       दीवारों के लेखचित्र ,
       स्नेह - भरी आँखें  वे ,
       ममता से बढ़ी बाँह ,
       आशंकित उत्सुकता ,
       भार बना संयम ,
       - वे सब कुछ हैं अब तक भी
       मेरे संग यहीं कहीं ।

       उन गुज़री राहों में
       मेरा मन अटका है ,
       और पाँव घिसट रहे
       मौजूदा राहों में ।

      तुम बिन
      मैं आधा हूँ
      तुम बिन अधूरा मैं
      कब तक यूँ भटकूँगा
      लिये हुए एक समूचा जंगल
      - बाँहों में ?

      बार - बार मर कर भी
      सिरजन की पीड़ा को
      साँसों में ढोऊँगा ,
      बीते के गालों पर
      मुँह धर कर रोऊँगा ,
      - मैं कब तक ?

      कैसा ये खालीपन
      कैसा ये भारीपन
      मुझको जो अनुभावित
      होता है प्रिय तुम बिन !

      लगता है  -
      मन में कुछ
      कहीं स्यात् टूट गया ,
      जीवन का एक छोर
      दूर कहीं छूट गया ,
      जिससे अब भेंट नहीं
      होगी शायद कभी !
                                                                                             - कवि श्रीकृष्ण शर्मा

    -----------------------------------

   ( रचनाकाल -1966 )          , पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु '' / पृष्ठ - 60, 61, 62




 











sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

Saturday, January 17, 2015

अवशिष्ट

         अवशिष्ट
      ------------
         ( ड़ॉ० धर्मवीर भारती की एक रचना से प्रेरित )

         छूट गया हूँ मैं
         तुम्हारे साथ ही पीछे
         बहुत पीछे ,
         यह तो छाँह है कोई
         यहाँ जो चल रही है ,
         या कि कोई और है यह ।
         जो दिया है बीच से ही तोड़ जीवन ने
         की जिसके जिस्म के ही अंश
         नोंच - खरोंच डाले हैं
         कि जिसके आस्था - विश्वास हारे हैं
          कि जो टूटा , लुटा - सा और हारा - सा
          खड़ा है आज इस संघर्ष के दौरान
          प्रिय , मैं वह नहीं हूँ ।

          आह ,
          जिसकी चेतना - संवेदना निष्प्राण ,
          जिसका रक्त भी पथरा गया है ,
          धड़कनें तक स्तब्ध ,
          जिसके शब्द भी निश्शब्द ,
          कोई और है  यह !

          जो किसी स्नेहिल लहर के आगमन की
          मूक स्मृति - सी
          रह गई है रेत के मन पर बनी ,
          यह छाँह है कोई ,
          नहीं हूँ मैं ।

          मैं नहीं हूँ ,
          क्योंकि तुम तो जानती हो
          दी चुनौती साथ में मैंने तुम्हारे जिंदगी को ,
          जिंदगी के साथ हर संघर्स को मैंने लिया था ओढ़ ,
          मैंने स्वयं के बल पर किया उपलब्ध सुखों को ,
          स्नेह के उस इन्द्रधनुष को
          जो की मेरे प्रति तुम्हारी आँख के
          हर अश्रु में झलका !

          मगर ,
          मैं तो मनुज था ,
          शक्ति की सामर्थ को भूला ,
          महज उस छाँह पर फूला
          बिछुड़ कर सूर्य से जो
          बढ़ चली थी दूसरी ही ओर ,
          जिसके दाय में था तिमिर का होना !

          नहीं मैं आज हूँ वह
          जो क़ि था पहले ,
          मगर कैसे कहूँ ?
          मैं वह नहीं हूँ ?
          हूँ वहीं ,
          सच है
          मगर वह और कोई था
          तुम्हारे साथ ही जो छूट गया है
          बहुत पीछे ,
          बहुत पीछे !
                                                                                              - कवि श्रीकृष्ण शर्मा 
          ------------------------------------

         ( रचनाकाल - 1966 )       ,  पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु '' / पृष्ठ - 58, 59







       







sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com           

साँझ : पुनरावृति अतीत की

                                                                                                                                                           
          साँझ : पुनरावृति अतीत की
        ---------------------------------

        फिर साँझ :
        अंधरे का आयतन बढ़ा प्रतिपल ,
        सूरज जुगनू - सा रेंग गया अँधियारे में
        मिट गई अकेली बची एक लाचार किरण ,
        - कुछ कसक गया मन में ,
        - कुछ तन में काँप गया ।

        दिन के कोलाहल में
        न सुन पड़ा था स्वर जो
        सुन पड़ा सौ गुना बड़ा कान में गूँज गया ,
        - सौ गुना प्राण में गूँज गया ,
        जो भीड़ - भाड़ के महासिंधु की गहराई में डूबा था ,
        - मन का दुश्मन ।

        फिर साँझ :
        दिवस की चहल - पहल को ठेल
        उदासी घुस आयी  गलियारे में ,
        औ ' बैठ गयी मेरे सम्मुख मेरे कमरे के द्वारे में ,
        मेरा एकाकीपन बढ़कर हो गया और सौ गुना बड़ा
        जिससे खोयापन और चिढ़ा ,
        - कुछ खटक गया मन में ,
        - शायद तन सूँघ अचानक साँप गया ।

        यह वर्तमान ,
        हर क्षण अतीत में समा रहा रहा ,
        हर क्षण बीता पल और पास आ रहा ,
        … पास आ रहा … स्यात् यह दर्पण है ,
        …  यह दर्पण है  …  गुज़रे अतीत का ,
        …  उस अतीत का …
        जब हमने - मैंने - तुमने  …
        मिल कर सपनों के शिशुओं को था जन्म दिया ,
        सबकी आँखों से छिप - छिप कर पाला उनको  ,
        मन के उन कोमल टुकड़ों को
        अपने स्नेह के सहज सपनीले मुखड़ों को
        धड़कन में बसा लिया ,
        - जी भर कर प्यार किया ।

        पर जाने कब
        कैसे उनके तोतले भाव
        हम दोनों के अनजाने ही
        अस्फुट शब्दों में ध्वनित हुए ,
        हम दोनों के अनजाने ही ,
        जग की अभ्यस्त निगाहों ने
        दो जीवित स्वर पहचान लिये ,
        हम दोनों के अनजाने ही षड्यंत्र रचे ,
        जब तक होते सतर्क तब - तक हम अलग किये ,
        दुधमुँहे और मासूम स्वप्न - शिशु विलग किये ।

        सूने एकाकी प्रहरों में
        उनके अबोध औ ' डूबे स्वर
        कर पार समय की दूरी जब - जब आते हैं
        - तब - तब मुझको बेहद उदास
        - बेहद अनमना बनाते हैं ।

        फिर साँझ :
        अतीतों के तन में
        घुलता जाता है वर्तमान ,
        दर्पण के सौ - सौ टूक प्राण में समा गये ,
        सुधियों के उस देश में छूटे शिशु - स्वप्नों के
        कोलाहल - भीड़भाड़ - हलचल को धकिया कर
        सौ गुनी शक्ति से स्वर कानों को गुँजा गये
        - मेरा तन
        बीते के आँचल में काँप गया ,
        - कुछ सिसक गया मन में
        - स्मृतियों में खोया मैं  ।
                                                                                                   - कवि श्रीकृष्ण शर्मा 
       --------------------------------

      ( रचनाकाल - 1966)     ,  पुस्तक - '' अक्षरों के सेतु '' / पृष्ठ - 55, 56, 57
















sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com