Tuesday, February 24, 2015

चन्द्रमा दोपहर का

                  चन्द्रमा दोपहर का 
                 ---------------------

                       दुपहर है 
                       और अभी ताजा है गुलमोहर ,
                       किन्तु रात देख उठी एक आँख खोल कर । 

                       धूप अभी चिलक रही ,
                       किलक रहा दिवस अभी ,
                       असम्पृक्त हैं अब तक 
                       भिन्न - भिन्न आकृतियाँ ,
                       पानी पर काँप रहीं 
                       विहगों की आकृतियाँ ;

                       रंग - रूप सब सच है ,
                       रेखाएँ जीवित है । 

                       किरणों का महल 
                       अभी हुआ नहीं खण्डहर ,
                       किन्तु एक चमगादड़ उड़ रहा कँगूरे  पर । 

                       दुपहर है 
                       और अभी ताज़ा  है गुलमोहर ,
                       किन्तु रात देख उठी एक आँख खोल कर । 

                                                             - श्रीकृष्ण शर्मा 

-------------------------------------------------
( रचनाकाल - 1963)  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 61














sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

2 comments: