Saturday, February 21, 2015

दिन कुम्हलाया

                       दिन कुम्हलाया 
           ------------------

              धूप ढल रही , दिन कुम्हलाया ,
              सूरज का चेहरा अँधराया । 

                         धुँधलाती आँखों के आगे ,
                         उजियारे ने मुँह लटकाया । 

              ऐसा गिरा - गिरा - सा जी है ,
              जैसे - कोई पहाड़ उठाया । 

                         चुप्पी बैठी है चौराहे ,
                         सड़कों सूनापन तिर आया । 

              रखा हुआ था जो कि ताख में ,
             यादों ने वह दिया जलाया । 

                        अँधियारा इस तरह बढ़ रहा ,
                        जैसे - मँहगाई की काया । 

              दूर - दूर तक नज़र न आती ,
              उम्मीदों की उजली छाया । 

                         कितना कठिन समय आया  है ,
                         अपनापन तक बना पराया । 

             भावों में तो गरमाहट है ,
             पर मौसम कितना ठंडाया ?

                        ऐसे में मन किसे पुकारे ,
                        पास न जब अपना ही साया । 

                                                                    - श्रीकृष्ण शर्मा 

-------------------------------------------
( रचनाकाल - 1958 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर '' ,  पृष्ठ - 47












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

6 comments:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (23-02-2015) को "महकें सदा चाहत के फूल" (चर्चा अंक-1898) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मयंक जी |

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद मयंक जी |

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ,...

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद प्रतिभा जी |

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete