Sunday, February 22, 2015

झिनपिन - झिनपिन

          झिनपिन - झिनपिन 
          ------------------------

             झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी ,
             गल -गल टपक रही है चाँदी ;
             लगता बूढ़ी बरखा माई ,बेहद आज थकी औ ' मांदी !
             झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी !

                          बादल जैसे - दूध सफ़ेदी ,
                          सन्ध्या  के बालों पर मेंहदी ;
                          रात कुसुम्बा भरा कटोरा , पीकर है धरती उन्मादी !
                          झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी !

             पवन गड़रिया  , भेड़ बदरिया ,
             मेघ साँवरे गौर बिजुरिया ;
             बरखा ने नभ की खूँटी पर , इन्द्रधनुष की धोती बाँदी !
             झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी !

                          कभी सियाह , कभी हैं नीले ,
                          लाल - बैंजनी - भूरे - पीले ;
                          रंग बदलते नेताओं - से बादल भी हैं अवसरवादी !
                          झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी !

             सुबह सुकेशिनी बंगालिन - सी ,
             दुपहरिया है पंजाबिन - सी ;
             ढलती धूप सुघर कश्मीरिन , रात कि  संथालिन शहज़ादी !
             झिनपिन - झिनपिन बूँदा - बाँदी ! 

                                                                                  - श्रीकृष्ण शर्मा 


            -------------------------------------------------------

                  ( रचनाकाल - 1959 )  .  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर '' ,  पृष्ठ - 52












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com
                

2 comments:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (24-02-2015) को "इस आजादी से तो गुलामी ही अच्छी थी" (चर्चा अंक-1899) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मयंक जी |

    ReplyDelete