Friday, February 20, 2015

ये बदरा

                     ये बदरा
           ---------

               ये बदरा !
               अटका रह गया 
               किसी नागफनी काँटे में ,
               बिजुरी का ज्यों अँचरा !
                            ये बदरा ! !

               जल की चल झीलें ये ,
               उड़ती हैं चीलों - सी ,
               झर - झर - झर झरती हैं ,
               जलफुहियाँ खीलों सी ;

                            पानी की सतह - सतह 
                            बूँद के बतासे ये 
                            फैंक दिए मेघों ने 
                            खिसिया कर पाँसे ये ;

               पीपल जो बेहद खुश 
               था अपनी बाजी पर ,
               उसके ही सिर अब 
               गाज गिरी है अररा 
                           ये बदरा ! !

               व्योम की ढलानों पर 
               बरखा के बेटे ये ,
               दौड़ - दौड़ हार गये ,
               हार -हार बैठे ये ;

                           लेटे - अधलेटे ये 
                           नक्षत्री नैन मूँद ,
                           चंदा के अँजुरी भर 
                           स्वप्न सँजों बूँद - बूँद ;

               अर्पित हो बिखर गये 
               भावुक समर्पण में ,
               टूट गया जादू औ '
               टोनों का हर पहरा !
                           ये बदरा ! !

               बिना रीढ़ वाले ये 
               जमुनी अँधेरे - से ,
               आर - पार घिरे हुए 
               सम्भ्रम के घेरे - से ; 

                           धरती की साँसों की 
                           गुंजलक में बँधे हुए ,
                           आते हैं  सागर की 
                           सुधियों से लधे - फँदे ;

               आँखों में अंकित हैं 
               काया के इन्द्रधनुष ,
               प्राणों में बीते का 
               सम्मोहन है गहरा !
                           ये बदरा ! !

               ये बदरा !
               अटका रह गया 
               किसी नागफनी काँटे में ,
               बिजुरी का ज्यों अँचरा !
                           ये बदरा ! !

                                                             - श्रीकृष्ण शर्मा 

-----------------------------------------
( रचनाकाल - 1959 )  , पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''   , पृष्ठ - 50, 51











sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

5 comments:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (22-02-2015) को "अधर में अटका " (चर्चा अंक-1897) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत - बहुत धन्यवाद .आप जैसे साहित्यकरों से कविता जगत बुलंदियों पर है .आपकी इस निष्पक्षतापूर्ण उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद .

    ReplyDelete
  3. जल की जल चीलें
    उडती हैं चीलों सी
    झर-झर-झर झरती हैं
    जलफुइयां खीलों की
    वाह!!
    आंखों में अंकित हैं
    काया के इंद्रधनुष
    प्राणों में बीते का
    सम्मोहन है गहरा
    ये बदरा----वाह!!
    व्योंम की ढलानों पर
    बरखा के बेटे ये---
    हार-हार ये बैठे हैं—वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद डॉ उर्मिला सिंह |

      Delete
  4. आप बहुत अच्छा लिखते है |

    ReplyDelete