Monday, March 16, 2015

विवशता का शाप

      विवशता का शाप 
      -------------------

        उग रहा अकेलापन साँझ के सिवाने । 
        सन्नाटा बुन  डाला ऊबती हवा ने । 

                   दिन के दरवाजे को 
                   धूप रही भेड़ ,
                   सूख रहा किरणों का 
                   हरा -भरा पेड़ ;

        तिमिर लगा चमगादड़ - जैसा मँडराने । 
        सन्नाटा बुन डाला ऊबती हवा ने । 

                   उजियारे का घेराव 
                   करते ये कौन ?
                   सबकी स्वीकृृतियों - सा 
                   बिखर रहा मौन ;

        निंदिया सम्मोहन के मंत्र लगी गाने । 
        सन्नाटा बुन डाला ऊबती हवा ने । 

                   उड़ती औ ' टकरा कर 
                   गिरती चुपचाप ,
                   स्वयं में विवशता ही 
                   शायद है शाप ;

        मन की गौरेया का त्रास कौन जाने ?
        सन्नाटा बुन डाला ऊबती हवा ने । 

                                                        - श्रीकृष्ण शर्मा 

---------------------------------------
( रचनाकाल - 1965 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 84












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

7 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (18-03-2015) को "मायूसियाँ इन्सान को रहने नहीं देती" (चर्चा अंक - 1921) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मयंक जी |

    ReplyDelete
  3. सुन्दर शब्द रचना......................
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद सावन जी |

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद सावन जी |

    ReplyDelete
  6. सहज शब्दों में कही गयी भावपूर्ण रचना, आभार

    ReplyDelete
  7. धन्यवाद डॉ.महेन्द्रग जी |

    ReplyDelete