Tuesday, March 10, 2015

ग्रीष्म की दोपहर

         ग्रीष्म की दोपहर 
        -------------------

           लगता है 
           सूरज पिघल गया । 
           कण - कण में चमकीला पारद -सा ढल गया । 

           हरियाली मरी 
           प्यास उग आयी । 
           पानी की आँखें तक पथरायीं । 
           धू - धू  कर जलता है ,
           लावे - सा रेत । 
           हू - हू  कर उड़ते हैं ,
           बालू के प्रेत । 

           काया के मोती 
           क्यों व्यर्थ जनम आये ?
           दुपहर के हाथों से शोर तक फिसल गया । 

           लगता है 
           सूरज पिघल गया । 
           कण - कण  में चमकीला पारद - सा ढल गया । 

                                                            - श्रीकृष्ण शर्मा 

-----------------------------------------------
( रचनाकाल - 1965 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ - 79









sksharmakavitaye.blogspot.in

shrikrishnasharma.wordpress.com
  

3 comments:

  1. बहुत खूब , शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मदन जी |

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete