Friday, March 27, 2015

प्यार : कुछ मुक्तक - 9










प्यार : कुछ  मुक्तक - 9
-------------------

'' घन - घटा देख नाचता मोर ,
  चन्द्र के लिए व्याकुल चकोर ;
  पपिहा प्यासा स्वाति के लिए ,
  ये आकर्षण प्यार की डोर । ''

                       - श्रीकृष्ण शर्मा 

_______________________________

पुस्तक - '' चाँद झील में ''  ,  पृष्ठ - 54












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

2 comments: