Friday, March 6, 2015

चलता दिन थमा

          चलता दिन थमा 
         -------------------

            उजियारा गिरा ,
            थका - हारा । 

                      चलता दिन थमा ,
                      हवा सुट्ट खड़ी ,
                      भुच्च अँधेरे की -
                      वह धौल पड़ी ;

            छूट गया 
            हाथों से पारा । 

            उजियारा गिरा ,
            थका - हारा । 

                      किरचों - किरचों 
                      चुप्पी बिखरी ,
                      शातिर सन्नाटे की -
                      ठकुराइस पसरी ;

            पर ढिबरी धुँधलाती ,
            आँखों ले भिनसारा । 

            उजियारा गिरा ,
            थका - हारा । 

                                                                      - श्रीकृष्ण शर्मा 

-------------------------------------------------------
( रचनाकाल - 1965 )  ,  पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  ,  पृष्ठ -78












sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (13-03-2015) को "नीड़ का निर्माण फिर-फिर..." (चर्चा अंक - 1916) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मयंक जी |

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद प्रतिभा जी |

      Delete
    2. This comment has been removed by the author.

      Delete