Saturday, February 20, 2016

'' अय्यारों की बस्ती में '' नामक नवगीत , कवि स्व. श्रीकृष्ण शर्मा के नवगीत संग्रह - '' एक अक्षर और '' से लिया गया है -









हैं बींध रहे दुर्दिन , पर किसको लिखें पाती ?
चौहद्दियों सन्नाटा , हैं  व्यूह तिलिस्माती !!
अय्यारों की बस्ती ये ,
सच की शिनाख़्त मुश्किल ,
है इनमें कौन दर्दी ,
है इनमें कौन क़ातिल ?
एक आँख रो रही है , एक आँख मुस्कराती। 
चौहद्दियों सन्नाटा , है व्यूह तिलिस्माती !! 
इस आग के सफर में 
क्या चीखना चिल्लाना ?
बेरहम हवाओं में 
कुछ और सुलग जाना 
रिश्तों की देहरी पर , तामाशायी बाराती। 
चौहद्दियों सन्नाटा , है व्यूह तिलिस्माती !!
पहरे पर खड़े अन्धे ,
हैं भाँजते तलवारें ,
राजा के भाग्य में हैं ,
बस ख़ौफ , घुटन हारें ,
बंजर उगीं घटनाएँ , जंगल हुए शहराती। 
चौहद्दियों सन्नाटा , है व्यूह तिलिस्माती !!
है दर्द का समन्दर ,
हर साँस - साँस डूबी ,
फिर भी तो जिये जाती ,
ये ज़िन्दगी अजूबी ,
सौं साँसतों कबीरा की साखियाँ बतियातीं। 
चौहद्दियों सन्नाटा , है व्यूह तिलिस्माती !!


                                - श्रीकृष्ण शर्मा 

( कृपया इसे पढ़ कर अपने विचार अवश्य लिखें | आपके विचारों का स्वागत है| धन्यवाद | )
_______________________
पुस्तक - '' एक अक्षर और ''  ,  पृष्ठ - 22

sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

सुनील कुमार शर्मा 
पी . जी . टी . ( इतिहास ) 
पुत्र –  स्व. श्री श्रीकृष्ण शर्मा ,
जवाहर नवोदय विद्यालय ,
पचपहाड़ , जिला – झालावाड़ , राजस्थान .
पिन कोड – 326512
फोन नम्बर - 9414771867

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (22-02-2016) को "जिन खोजा तीन पाइया" (चर्चा अंक-2260) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मयंक जी |

    ReplyDelete