Saturday, April 16, 2016

'' खरीफ़ का गीत '' नामक गीत , कवि श्रीकृष्ण शर्मा के गीत - संग्रह - '' फागुन के हस्ताक्षर '' से लिया गया है -









'' खरीफ़ का गीत ''
--------------------

सिर से ऊँचा खड़ा बाजरा , बाँध मुरैठा मका खड़ीं ,
लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी। 

       पाँव सरपतों पर घर करके 
       हवा चल रही है सर - सर ,
       केतु फहरते हैं काँसों के 
       बाँस रहे हैं साँसें भर ;

पाँव गड़ाती दूब जा रही , किस प्रीतम के गाँव बढ़ी। 
लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी। 

       सींग उगा करके सिंघाड़ा 
       बिरा रह मुँह बैलों का 
       झाड़ और झंखाड़ खड़े हैं 
       राह रोक कर गैलों का ;

पोखर की काँपती सतह पर , बूँदों की सौं थाप पड़ीं। 
लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी। 

       घुइयाँ बैठी छिपी भूमि में 
       पातों की ये ढाल लिये ,
       लेकिन अपनी आँखों में है 
       अरहर ढेर सवाल लिये ;

फिर भी सत्यानाशी के मन में , है अनगिन फाँस गड़ीं। 
लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी। 

       पके हुए धानों की फैली 
       ये जरतारी साड़ी है ,
       खंडहर की दीवारों पर ये 
       काईदार किनारी है ;

छोटे - बड़े कुकुरमुत्तों ने , पहनी है सिर पर पगड़ी। 
लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी। 

       ले करके  आधार पेड़ का 
       खड़ी हुई लंगड़ी बेलें ,
       निरबंसी बंजर के घर में 
       बेटे - ही - बेटे खेलें ,

बरखा क्या आयी , धरती पर वरदानों की लगी झड़ी। 
लगीं ज्वार के हाथों में हैं , हीरों की सात सौ लड़ी। 


                             - श्रीकृष्ण शर्मा 

________________________________
पुस्तक - '' फागुन के हस्ताक्षर ''  , पृष्ठ - 41 , 42

sksharmakavitaye.blogspot.in
shrikrishnasharma.wordpress.com

सुनील कुमार शर्मा 
पी . जी . टी . ( इतिहास ) 
पुत्र –  स्व. श्री श्रीकृष्ण शर्मा ,
जवाहर नवोदय विद्यालय ,
पचपहाड़ , जिला – झालावाड़ , राजस्थान .
पिन कोड – 326512
फोन नम्बर - 9414771867





4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (18-04-2016) को "वामअंग फरकन लगे " (चर्चा अंक-2316) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मयंक जी |

    ReplyDelete
  3. वाह सारे फसल का मानवीकरण कर दिया आपने वह भी इतने प्यारे शब्दों में।

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद आशा जोगलेकर जी |

    ReplyDelete